play-sharp-fill
छत्तीसगढ़बिलासपुर

बेमौसम बारिश सेे धान को बचाने पुख्ता इंतजाम ‘अभियान चलाकर तारपोलीन से ढंके गये धान के बोरे…

Advertisement

बिलासपुर : बेमौसम बारिश से उपार्जन केन्द्रों पर खुले मंे पड़े धान के बचाव के लिए जिला प्रशासन द्वारा पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। फड़ में खुले में रखे गये धान के बोरों को तारपोलीन के कैप कव्हर से ढंककर बारिश से सुरक्षित किया गया है।

Advertisement

कलेक्टर श्री अवनीश शरण ने आज सवेरे साप्ताहिक टीएल की बैठक में मौसम के मिजाज को देखते हुए खुले पड़े धान के बोरों की पानी से सुरक्षा इंतजाम के निर्देश दिए थे। कलेक्टर के निर्देश के बाद युद्धगति से खुले में पड़े खरीदे गये तमाम धान के बोरों और स्टेक्स को ढंका गया। खाद्य, मार्कफेड एवं सहकारी बैंक के अफसरों ने आज दर्जनों खरीदी केन्द्रों का दौरा कर तारपोलीन से सुरक्षित ढंकवाया उन्होंने सहकारी समितियों के प्रबंधकों को कड़ी हिदायत दी है। उन्होंने कहा कि समिति प्रबंधकों को कैप कव्हर के लिए राशि आवंटित की गई है।

Advertisement

इसके बावजूद पानी से धान को नुकसान हुआ तो संबंधित प्रबंधकों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जायेगी। कलेक्टर के निर्देश पर आज खाद्य नियंत्रक श्री अनुराग भदौरिया एवं डीएमओ ने पिपरतराई, कोटा, गनियारी, बेलगहना और भरारी खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण किया। अपने समक्ष उन्होंने कैप कव्हर एवं डनेज की व्यवस्था कराई।

इसी प्रकार जिला सहकारी बैंक के नोडल अधिकारी श्री आशीष दुबे ने घुटकू, पोड़ी लाखासार, सकर्रा और बोदरी का निरीक्षण किया। नायब तहसीलदार श्री चंद्रवंशी ने सेमरताल खरीदी केंद्र का निरीक्षण किया। अत्यधिक बारिश होने पर केन्द्र में पानी का जमाव न हो सके, इसके लिए कई जगह पानी निकासी के लिए अस्थायी नाली भी निकाला गया। गौरतलब है कि जिले में 140 खरीदी केन्द्रों के जरिए किसानों से धान खरीदी की जा रही है। अब तक 3 लाख 24 हजार क्विंटल धान की खरीदी की गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button