देश

शर्मनाक- मां को अस्पताल लाने के लिए एंबुलेंस वाले ने मांगे 900  रुपय और लाश ले जाने के 3000 रुपए… मजबूरन कंधे पर लादकर…!

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : कंधे पर मां की लाश उठाए बेटा करीब 50 किलोमीटर तक चला जा रहा था. इंडिया टुडे से बात करते हुए मृतक महिला के बेटे जय कृष्ण दीवान ने बताया, “जब मैं अपनी मां को अस्पताल लेकर आया तो एंबुलेंस ने लगभग 900 रुपए लिए थे. मगर, इस बार एंबुलेंस चालक ने शव को ले जाने के लिए 3000 रुपए की मांग की. मैंने उससे कहा कि थोड़े से पैस और ले लो, लेकिन वह नहीं माना.”

Advertisement

निजी एंबुलेंस चालक और अस्पताल का गठजोड़

Advertisement

सरकारी सुविधाओं द्वारा कोई शव वाहन उपलब्ध नहीं कराया गया था. मैं बेबस था और मुझे अपनी मां के शव को अपने कंधों को उठाना पड़ा. इस घटना ने चिकित्सा उपकरणों के उपयोग को लेकर अस्पताल प्रशासन की लापरवाही पर सवाल खड़ा कर दिया है. इसके अलावा स्थानीय लोगों ने निजी एंबुलेंस और अस्पताल के गठजोड़ की धांधली पर भी सवाल उठाए.

(शशि कोन्हेर) : पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी से दिल दहला देने वाली एक घटना सामने आई है. यहां एक अभागे बेटे को अपनी मां के शव को अपने कंधों पर ढोने के लिए मजबूर होना पड़ा. वह करीब 50 किलोमीटर तक अपनी मां के शव को कंधे में उठाकर ले गया. दरअसल, एंबुलेंस चालक तय शुल्क से करीब तीन गुनी रकम की मांग कर रहा था.

जलपाईगुड़ी जिला केके सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल से सुबह करीब 10:30 बजे मां के गुजर जाने के दुख से जूझ रहा बेटा एंबुलेंस चालक से ठीक-ठीक पैसे लेने की बात कर रहा था. मगर, उसे तीन गुने से ज्यादा किराया मांगा जा रहा था, जिसे देने में वह सक्षम नहीं था. लिहाजा, अपने पिता के साथ वह पैदल ही पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में कांति गांव के लिए चल पड़ा. दोनों ने अपने कंधों पर महिला को उठा रखा था. 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button