Uncategorized

रूसी मिसाइलों ने फिर यूक्रेन पर धावा बोला 12 लोगों की मौत 64 घायल, बिजली आपूर्ति हुई ठप

(शशि कोन्हेर) : सेना ने शनिवार को यूक्रेन पर फिर से मिसाइलों की बौछार की। इस हमले में राजधानी कीव और दूसरे बड़े शहर खार्कीव की नागरिक सुविधाओं को खासतौर पर निशाना बनाया गया। इसके अतिरिक्त मीकोलईव, लवीव, विनित्सा, चुहुएव, डेनिप्रो और ओडेसा में भी मिसाइल हमले हुए हैं।

Advertisement

इन हमलों से कई शहरों में बिजली और पानी की आपूर्ति ठप हो गई है। यूक्रेन के एयर डिफेंस सिस्टम ने जवाबी फायर कर कई मिसाइलों को आकाश में ही नष्ट करने की जानकारी दी है। पूर्वी यूक्रेन के शहरों में पूर्व की भांति लड़ाई जारी है। रूसी सेना अब बाखमुट पर कब्जे के लिए हमले कर रही है।
डेनिप्रो में बहुमंजिला इमारत पर मिसाइल हमले में दो बच्चों समेत 12 लोगों की मौत हो गई है।

Advertisement

जबकि 64 घायल हुए हैं। इमारत का एक हिस्सा नष्ट हो गया है। वहीं, रूसी मिसाइल अटैक के बाद यूक्रेन की बिजली आपूर्ति करने वाली संस्था यूक्रेनइर्गो ने कहा है कि विद्युत व्यवस्था को हुए नुकसान को ठीक करने के लिए इंजीनियर और कर्मचारी दिन-रात काम कर रहे हैं। जल्द ही हालात सामान्य कर लिए जाएंगे। मालूम हो कि कीव में इस समय न्यूनतम तापमान शून्य से दो डिग्री सेल्सियस कम है।

Advertisement


रूसी सेना यूक्रेन के बिजलीघरों को अक्टूबर 2022 से मिसाइल और ड्रोन से निशाना बना रही है। इससे ठंड के मौसम में बिजली-पानी की कमी पैदा हो गई है, जिससे नागरिकों को भारी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। कीव के सैन्य प्रशासन ने कहा है कि रूसी हमले से एक बिजलीघर को नुकसान हुआ है लेकिन वह गंभीर नहीं है। नजदीक के एक गांव के कुछ मकान भी क्षतिग्रस्त हुए हैं।
शनिवार के हमले में रूसी सेना ने मिसाइलों को बैलेस्टिक मिसाइल रूट पर दागा।

इसमें काफी ऊंचाई से मिसाइल दागी जाती है और उसे रडार जल्द पकड़ नहीं पाते। यूक्रेन के पास बैलेस्टिक मिसाइलों को ट्रैक करने वाला डिफेंस सिस्टम नहीं है। इसलिए शनिवार के हमले से पहले कई शहरों में बचाव के लिए सावधान करने वाले सायरन नहीं बजे।
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने शनिवार को यूक्रेन को जल्द ही चैलेंजर टैंक और तोप भेजने की घोषणा की है। सुनक ने शनिवार को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से फोन पर बात की है और उन्हें साथ होने का भरोसा दिया है। यूक्रेन को इससे पहले अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी और पोलैंड भी टैंक देने की घोषणा कर चुके हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button