छत्तीसगढ़

रेलवे ने बच्चों के लिए लगाया, तीरंदाजी प्रशिक्षण केम्प

Advertisement

(भूपेंद्र सिंह राठौर) : बिलासपुर – रेलवे ने बच्चों के लिए तीरंदाजी प्रशिक्षण कैम्प लगाया है. जहां विश्व स्तरीय महिला खिलाड़ी आर्चरी से उनका परिचय करा रही है. इस खेल को विकसित कर नए खिलाड़ी तैयार करना कैम्प का मकसद है.

Advertisement

आधुनिक तीर कमान यानी आर्चरी पर लक्ष्य साधना कठिन काम है परंतु य़ह बचपन से सिखाया जाए तो आगे चलकर वह तीरंदाज बन सकते है. इस मकसद से रेलवे ने तीरंदाजी प्रशिक्षण कैंप लगाया है जहां 12 बालक बालिकाएं टारगेट पर निशाना साधना सीख रहे हैं.

Advertisement

इनकी प्रशिक्षक विश्व स्तरीय तीरंदाज टी साकरो राव ने बताया एसईसीआर का उद्देश्य है तीरंदाजी के क्षेत्र में नई पौध तैयार की जाए जिससे रेलवे ही नहीं प्रदेश और देश का नाम विश्व स्तर पर इस खेल से भी पहचाना जाए. इस खेल की बारीकियां सीख रहे बच्चों मे उत्साह है.

इन्हें हाल ही में भारतीय रेलवे आर्चरी गर्ल्स टीम का कोच बनाया है. एशियन सिल्वर मेडलिस्ट टी साकरो राव बच्चों की लगन देख आशान्वित है उन्हें भरोसा है कि कड़ी मेहनत और धैर्य से   सीखकर बच्चे तीरंदाजी के अच्छे खिलाड़ी बन सकते हैं. 15 जून तक प्रशिक्षण कैम्प चलाया जाएगा.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button