देश

नागपुर में दर्ज मामले में बागेश्वर धाम महाराज को पुलिस ने दी क्लीनचिट

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बागेश्वर धाम महाराज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को नागपुर पुलिस ने क्लीन चिट दे दी है. नागपुर पुलिस ने इस मामले में जांच करने के बाद अपनी रिपोर्ट में बताया कि वीडियो में देखने के बाद यह स्पष्ट है कि वीडियो में धर्म के प्रचार से जुड़ी सामग्री है. इसमें अंधश्रद्धा जैसी कोई चीज नजर नहीं आई. इसके बाद धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री अपने विरोधियों पर जमकर बरसे.

Advertisement

बागेश्वर धाम में अपनी गद्दी पर बैठे धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि हनुमान चालीसा का प्रचार करना अगर अंधविश्वास है, तो सभी हनुमान भक्तों को जेल जाना चाहिए था. कानून पर मुझे भरोसा था और सच की जीत हुई. वह यहीं नहीं रुके. उन्होंने आगे कहा, रामचरितमानस को राष्ट्रीय धर्म घोषित कर देना चाहिए. तभी भारत विश्व गुरु बनेगा और तभी सामाजिक समरसता होगी.

Advertisement

बागेश्वर धाम में श्रद्धालुओं में खुशी की लहर

बागेश्वर धाम में बहुत दिनों के बाद बाबा धीरेंद्र शास्त्री को अपने बीच पाकर श्रद्धालुओं में खुशी की लहर दौड़ गई. इस दौरान जमकर नारेबाजी भी हुई और जय श्री राम के नारों से धाम गूंज उठा. विवाद के बाद यह उनकी पहली प्रतिक्रिया थी. हालांकि, इससे पहले उन्होंने रायपुर में खुले मंच से शिकायत करने वाले नागपुर के अखिल भारतीय अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के श्याम मानव को दरबार में आने की चुनौती दी थी. मगर, श्याम मानव ने वहां आने से इनकार कर दिया था.

प्रेत दरबार की आड़ में जादू-टोना को बढ़ावा देने का लगाया गया था आरोप

बताते चलें कि श्याम मानव ने आरोप लगाया था कि बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री अंधविश्वास फैला रहे हैं. समिति के अध्यक्ष श्याम मानव ने कहा था कि ‘दिव्य दरबार’ और ‘प्रेत दरबार’ की आड़ में जादू टोना को बढ़ावा दिया जा रहा है. साथ ही देव-धर्म के नाम पर आम लोगों को लूटने, धोखाधड़ी और शोषण भी किया जा रहा है.

समिति ने पुलिस से महाराज पर कार्रवाई करने की मांग भी की थी. इस पर पुलिस कमिश्नर और फिर नागपुर क्राइम ब्रांच के पास दो बार शिकायत की गई थी. इस समिति के अध्यक्ष श्याम मानव का कहना है कि कथा के नाम पर जो हो रहा है वो साफ-साफ जादू-टोने और अंधश्रद्धा को फैलाने का काम है.

Advertisement

दो दिन पहले ही नागपुर में खत्म कर दी गई थी कथा

Advertisement

बार-बार पुलिस से शिकायत करने के बाद आयोजकों को इस बात का पता चला और उन्होंने इस कथा को 2 दिन पहले खत्म करने का फैसला लिया है क्योंकि जिस तरह से ये कानून है और धीरेंद्र शास्त्री ने इस दिव्य दरबार के नाम से जो कानून का उल्लंघन किया है, ऐसे में इस कानून के तहत जेल होना तय है. इस कानून के तहत जमानत का भी प्रावधान नहीं है.

आयोजकों ने बताया था कि दो दिन पहले क्यों खत्म हुआ था कार्यक्रम 

वहीं, आयोजकों का कहना है की कथा 7 दिन यानी 5 जनवरी से 11 जनवरी तक होनी थी. मगर, अचानक से धीरेंद्र शास्त्री महाराज को बागेश्वर धाम में बनाए जाने वाले अस्पताल की बैठक में शामिल होने के लिए ‘गड़ा’ जाना था. लिहाजा, कथा को 2 दिन पहले ही समाप्त किया गया था.

शिकायत करने वाले श्याम मानव को नागपुर पुलिस ने दिया जवाब

बागेश्वर धाम के धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर नागपुर में अखिल भारतीय अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति द्वारा शिकायत की गई थी. जिस पर नागपुर पुलिस ने जांच करने के बाद धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री महाराज को क्लीन चिट दी है. नागपुर पुलिस नागपुर पुलिस ने शिकायत करने वाले श्याम मानव को भी लिखित में भी इसका जवाब दिया है.

श्याम मानव ने नागपुर पुलिस को ही कठघरे में किया खड़ा

इस पर अब श्याम मानव ने सवाल खड़े करते हुए नागपुर पुलिस को ही कटघड़े में खड़ा कर दिया है. श्याम मानव ने कहा की ACP पर जिम्मेदारी है और कानून के तहत वो FIR नहीं कर रहे हैं. इसका साफ मतलब है कि वह बाबा की अप्रत्यक्ष रूप से सहायता कर रहे हैं. कानून के तहत उन पर ही गुनाह दाखिल हो सकता है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button