छत्तीसगढ़

पीएम का चेहरा नीतीश, मुसलमानों पर फोकस; जदयू ने शुरू की ‘भाईचारा यात्रा’

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिहार की सत्तारूढ़ जद (यू) ने 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले मतदाताओं, विशेषकर अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों तक पहुंचने के लिए सामाजिक एकता और सांप्रदायिक सद्भाव के लिए पूरे बिहार में एक यात्रा शुरू की है।

Advertisement

नीतीश कुमार की पार्टी की इस यात्रा को ‘भाईचारा यात्रा’ कहा जा रहा है। इसका नारा है- अपनी तारीख को बचाएं, नीतीश के साथ आएं, इंडिया को मजबूत बनाएं। जदयू की इस यात्रा को “कारवां-ए-इत्तेहाद” भी कहा जा रहा है।

Advertisement

यह 1 अगस्त को पश्चिम चंपारण के नरकटियागंज से शुरू हुई। लगभग एक महीने तक चलने वाली यह यात्रा बिहार के 38 जिलों में से 27 जिलों को कवर करेगी, जहां बड़ी संख्या में मुस्लिम आबादी है। यात्रा को जद (यू) एमएलसी खालिद अनवर के नेतृत्व में शुरू किया गया है।

इसमें समय-समय पर बिहार के कुछ प्रमुख मंत्री भी शामिल होंगे, जिनमें बिहार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री जमा खान भी शामिल होंगे। हालांकि, बिहार के सीएम और जेडीयू सुप्रीमो नीतीश कुमार यात्रा का हिस्सा नहीं होंगे।

इन जिलों को कवर करेगी जदयू की यात्रा

जद (यू) के सूत्रों ने कहा कि पार्टी द्वारा इस यात्रा को करने के कई कारण है। इनमें बिहार शरीफ और सासाराम में हाल की सांप्रदायिक हिंसा के साथ-साथ चुनाव से पहले राज्य में सांप्रदायिक कलह की आशंकाएं शामिल हैं।

भाजपा की प्रमुख सहयोगी रही जद (यू) पिछले साल अगस्त में एनडीए से बाहर हो गई थी, जिसके बाद नीतीश ने अपनी सरकार बनाने के लिए राजद और अन्य महागठबंधन सहयोगियों से हाथ मिलाया।

यात्रा पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, सीतामढी और सीवान समेत उत्तर बिहार के कई जिलों से गुजरेगी। यह सेमांचल के किशनगंज, कटिहार, अररिया और पूर्णिया जिलों से गुजरते हुए दरभंगा और मधुबनी के मिथिलांचल बेल्ट को भी पार करेगी, जहां 40 प्रतिशत से अधिक मुस्लिम आबादी रहती है।

Advertisement

जदयू का मुसलमानों पर फोकस

इस यात्रा का उद्देश्य 2024 के चुनावों के लिए नीतीश को राष्ट्रीय स्तर पर संभावित प्रधानमंत्री पद के चेहरे के रूप में स्थापित करना भी प्रतीत होता है। नरकटियागंज में यात्रा की शुरुआत करते हुए खालिद अनवर ने एक सभा में कहा, “हम मुसलमान एक कठिन समय में जी रहे हैं। हम क्या पहनते हैं, क्या पकाते और खाते हैं, ये सब अब सवालों के घेरे में है। यह पूरी तरह से उस गंगा-जमुनी तहजीब के खिलाफ है जिसकी हम अक्सर बात करते हैं।

इसलिए हमें जागने की जरूरत है, अपने विवेक का इस्तेमाल करें और उकसावे में न आएं।” उन्होंने कहा, ”हमने स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और कभी दूसरों के नाम और उपनाम की परवाह नहीं की।” अनवर ने पिछले 18 वर्षों में सीएम रहने के दौरान नीतीश कुमार द्वारा किए गए सामाजिक एकजुटता और राज्य भर में कब्रिस्तानों की बाड़ लगाने जैसी पहल करके मुस्लिम समुदाय के विकास पर भी बात की।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button