छत्तीसगढ़

बिना लायसेंस कबाड़ खाना  खुलने से क्षेत्र में बढ़ने लगी चोरी घटनाओं का ग्राफ

Advertisement

(मुंन्ना पाण्डेय) : लखनपुर+(सरगुजा) : इन दिनों क्षेत्र में कबाड़ ख‌रीदारी करने वालों के दुकान खुल जाने से क्षेत्र में चोरी  जैसे  घटनाओं का ग्राफ तेजी से बढ़ने लगा है। लोगों का बताना है केबल तार, टुल्लूपप अन्य लोहे  सामानो की चोरी होना एक आम बात सी हो गई है । पूर्व में हुये चोरी इस बात का पुख्ता सबूत है।

Advertisement

लिहाजा इन दिनों आवारा तत्वों द्वारा लोहे सामान की चोरी कर इन कबाड़ियों के हाथों   बेचा जा रहा है। चोरी मामले के आंकड़ों की बात करें तो चोरी के कई मामले थाना में दर्ज है क्षेत्र में ग्राम जूनालखनपुर भरतपुर, केवरा ,केवरी रजपुरीकला में चोरी गये टुल्लु पंपों  की बरामदगी नहीं हो सकी है।

Advertisement

कुछ महीने पहले आसपास के किसानों ने टुल्लू पंप चोरी की रिपोर्ट थाने में दर्ज कराये है इतना ही नहीं विधुत विभाग ने भी वनांचल क्षेत्र में लाईन विस्तार के दौरान बिजली पोल में लगे लोहे का एगल  अज्ञात चोरों द्वारा  ले उडने का रिपोर्ट आज भी दर्ज है। इन कबाड़ चोरों को पकड़ने में पुलिस नाकामयाब रही है। इन कबाड़ दुकान संचालकों  के सह एवं पुलिस  निगरानी  के अभाव में  लगातार चोरी हो रहे हैं।

Advertisement


इन नाजायज कबाड़ खानो को नियमानुसार बंद कराना चाहिए। ऐसा लोगों का मानना है इतना ही नहीं बहुतायत कबाड़ खरीदारी करने वाले लोगों का कोई मुसाफिर नामा भी थाने में दर्ज नहीं होता जिससे कबाड़ ही नहीं अपितु  बकरे बकरीयो की भी चोरी होने लगीं हैं। क्षेत्र वासियों ने नाजायज तरीके से चल रहे कबाडखानो पर नियमानुसार कार्यवाही करते हुए इन कबाड़ दुकानों को बंद कराने शासन प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराया है।

Advertisement

खास खबर यह भी है कि एसईसीएल अमेरा खुली  खदान में लाखों रूपये के केबल  तांबा तार व लोहे का एंगल  अज्ञात चोरों  द्वारा पार कर दिया गया है जिससे  शासन प्रशासन बेखबर है लाखों रुपए का क्षति होने के बावजूद  पुलिस के सुस्त कार्यप्रणाली से चोरों का हौसला बुलंद  है । यदि कबाड़ दुकानों का संचालन ऐसे ही होता रहा तो निश्चित तौर पर क्षेत्र में चोरी जैसे घटनाओं का ग्राफ  बढ़ते रहना तय है।
क्षेत्र वासियों का कहना है इन कबाड़ियों पर अंकुश लगाया जाये।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button