Uncategorized

चीन की धमकियों चेतावनियों के बाद भी ताइवान पहुंची नैंसी पेलोसी… अमेरिका और ड्रैगन के बीच तनाव चरम पर

(शशि कोन्हेर) : अमेरिकी सदन की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी मंगलवार को मलेशिया से ताइवान पहुंच गईं हैं। यात्रा से बीजिंग के साथ अमेरिका का तनाव बढ़ गया, जो स्वशासित द्वीप को अपना क्षेत्र होने का दावा करता है।उधर, समाचार एजेंसी एएफपी ने बताया कि ताइवान जलडमरूमध्य को चीनी लड़ाकू जेट ने पार किया है।

Advertisement

एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि पेलोसी और उनके प्रतिनिधिमंडल को ले जाने वाला विमान मलेशियाई वायु सेना के अड्डे से एक संक्षिप्त ठहराव के बाद रवाना हुआ, जिसमें प्रधानमंत्री इस्माइल साबरी याकोब के साथ दोपहर का भोजन शामिल था। अधिकारी ने कहा क्योंकि वह मीडिया को विवरण जारी करने के लिए अधिकृत नहीं है।

Advertisement

नैंसी पेलोसी इस हफ्ते एशियाई दौरे पर हैं। उनकी यात्रा पर करीब से नजर रखी जा रही है कि क्या वह ताइवान का दौरा करने के खिलाफ चीन की चेतावनियों की अवहेलना करेंगी। यह स्पष्ट नहीं था कि वह मलेशिया से कहां जा रही हैं, लेकिन ताइवान में स्थानीय मीडिया ने बताया कि वह मंगलवार रात पहुंचेगी, जो 25 से अधिक वर्षों में यात्रा करने के लिए सर्वोच्च रैंकिंग वाली निर्वाचित अमेरिकी अधिकारी बन गई।

Advertisement

रूस ने कहा, क्षेत्र में बढ़ेगा तनाव
उधर, रूस ने मंगलवार को संयुक्त राज्य अमेरिका को चेतावनी दी कि अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा इसे चीन के साथ टकराव के रास्ते पर ले जाएगी और इस क्षेत्र में तनाव को भड़काएगी।

ताइवान में रात बिताएंगी नैंसी पेलोसी
ताइवान के तीन सबसे बड़े राष्ट्रीय समाचार पत्रों द यूनाइटेड डेली न्यूज, लिबर्टी टाइम्स और चाइना टाइम्स ने अज्ञात स्रोतों का हवाला देते हुए कहा कि वह ताइवान में रात बिताएंगी।

ताइवान के विदेश मंत्रालय ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। ताइवान की राष्‍ट्रपति सु त्सेंग-चांग ने नैंसी पेलोसी की यात्रा की स्पष्ट रूप से पुष्टि नहीं की, लेकिन मंगलवार को कहा कि किसी भी विदेशी मेहमान और मैत्रीपूर्ण सांसदों का बहुत-बहुत स्वागत है।

चीन ताइवान को अलग देश मानने से इनकार करता है। उसका कहना है कि यदि आवश्यक हो तो सुरक्षा बलों द्वारा ताइवान पर कब्जा कर लिया जाएगा। नैंसी पेलोसी की दौरे पर उसने बार-बार जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी है। उसका कहना है कि उसकी सेना कभी भी आलस्य से नहीं बैठेगी।

चीन ने नैंसी पेलोसी की यात्रा को उकसावे भरी कार्रवाई कहा

Advertisement

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मंगलवार को बीजिंग में संवाददाताओं से कहा कि अमेरिका और ताइवान ने पहले उकसावे के लिए मिलीभगत की है। चीन को केवल आत्मरक्षा के लिए कार्रवाई करने के लिए मजबूर किया गया है। हुआ ने कहा कि चीन अमेरिका के साथ लगातार संपर्क में है। स्पष्ट किया है कि अगर यह यात्रा वास्तव में होती है तो यह कितना खतरनाक होगी। उन्होंने कहा कि चीन द्वारा उठाए गए कोई भी जवाबी कदम वाशिंगटन के ‘बेईमानी व्यवहार’ के सामने उचित और आवश्यक होंगे।

Advertisement

वहीं संयुक्त राज्य अमेरिका ने सोमवार को कहा कि वह पैलोसी की यात्रा पर चीनी तलवार की खड़खड़ाहट से नहीं डरेगा। सूत्र ने बताया कि मंगलवार की सुबह संवेदनशील जलमार्ग की मध्य रेखा के करीब उड़ान भरने वाले चीनी विमानों के अलावा कई चीनी युद्धपोत सोमवार से अनौपचारिक विभाजन रेखा के करीब थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button