छत्तीसगढ़

विधायक शैलेश पांडे ने अहिरन लिंक परियोजना और छपरा टोला परियोजना का मामला सदन में उठाया, मंत्री ने बताया प्रशासकीय स्वीकृति के बाद शुरू होगा काम

(शशि कोन्हेर) : रायपुर – मंगलवार को विधानसभा सत्र के दौरान नगर विधायक शैलेश पांडेय ने अहिरन खारंग लिंक परियोजना और छपरा टोला परियोजना का मुद्दा उठाया। मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया कि अहिरन खारंग लिंक परियोजना ” अहिरन से गाजरा नाला जल संवर्धन योजना ” अहिरन नदी पर प्रस्तावित है। परियोजना वित्तीय वर्ष 2021-22 नवीन मद में शामिल है एवं छपरा टोला परियोजना बिलासपुर के खोंगसरा के समीप प्रस्तावित है यह भी वित्तीय वर्ष 2021-22 के नवीन मद में शामिल है।

Advertisement

इसके अलावा नगर विधायक शैलेष पांडेय ने विधानसभा में कहा कि बिलासपुर में अमृत मिशन योजना को पिछली सरकार ने आधा अधूरा प्रारंभ किया था। बड़ी-बड़ी घोषणाएं की थी और लोगों को सपना दिखाया था। लेकिन उन्होंने कोई काम नहीं किया हमारी सरकार ने बिलासपुर की जनता से जो वादा किया है इसके लिए अहिरन खारंग लिंक परियोजना और छपराटोला की अद्यतन स्थिति की जानकारी मांगी की यह कब तक प्रारंभ होगा।

Advertisement

जवाब में मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया कि यह दोनों परियोजनाओं को हमने बजट में प्रावधानवित किया है। एफ.आई.सी की मीटिंग में दोनों परियोजनाओं की स्वीकृति दे दी गई है। प्रशासकीय स्वीकृति के लिए दोनों परियोजना लंबित है। खारंग अहिरन परियोजना की अनुमानित लागत 720 करोड़ रुपये है। इसमें जल भराव क्षमता 46 मिलियन घन मीटर है। इसमें से बिलासपुर के लिए 31 मिलियन घन मीटर रखा गया है।

Advertisement

छपरा टोला परियोजना यह बहुत महत्वपूर्ण योजना है पर्यावरणीय जलभराव हेतु अरपा के लिए इसमें तीन प्रकार के काम होंगे जिसके लिए पानी मिलेगा। निस्तारित और पेयजल के लिए भी उपलब्ध होगा। नदी में हमेशा पानी भरा रहेगा। इसके लिए भी एफ.आई.सी से स्वीकृति मिल चुकी है। प्रशासकीय स्वीकृति के लिए लंबित है। इसकी लागत 968 करोड रुपए है। अरपा नदी में जो बांध बनेगा उसमें 30 मिलियन घन मीटर एवं मट्टी नाला में 37 मिलियन घन मीटर जल उपलब्ध रहेगा। कुल 67.77 मिलियन घन मीटर की छमता है। इससे अरपा नदी में 12 महीना पानी भरा रहेगा और अरपा नदी को पुनर्जीवित करेगा। योजना हमारी प्राथमिकता में है जल्द ही प्रारंभ होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button