Uncategorized

सिर कलम कर देते तो बेहतर होता..”: यूनिवर्सिटी में पढ़ाई पर प्रतिबंध के बाद अफगानी महिलाओं ने कहा

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : मारवा कुछ महीने बाद विश्वविद्यालय जाने वाली थी, वो ऐसा करने वाली अपने अफगान परिवार की पहली महिला होती, लेकिन अब वो अपने भाई को उसके बिना यूनिवर्सिटी जाते हुए देखेगी. तालिबान नियंत्रित अफगानिस्तान में महिलाओं को अब पढ़ने के लिए विश्वविद्यालय जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. यहां पिछले एक साल से लगातार उनकी स्वतंत्रता छीन ली गई है. मारवा ने काबुल में अपने घर पर एएफपी को बताया, “अगर उन्होंने महिलाओं का सिर कलम करने का आदेश दिया होता, तो वह भी इस प्रतिबंध से बेहतर होता.”

Advertisement

उन्होंने कहा, “अगर हम इतने बदकिस्मत हैं, तो काश हम पैदा ही नहीं होते. मुझे दुनिया में अपने अस्तित्व के लिए खेद है. हमारे साथ जानवरों से भी बदतर व्यवहार किया जा रहा है. जानवर अपने आप कहीं भी जा सकते हैं, लेकिन हम लड़कियों को अपने घरों से बाहर निकलने का भी अधिकार नहीं है.”

Advertisement

19 वर्षीय मारवा ने हाल ही में मार्च से अफगानिस्तान की राजधानी में एक मेडिकल विश्वविद्यालय में नर्सिंग की डिग्री शुरू करने के लिए प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की थी. वह अपने भाई हामिद के साथ हर दिन कैंपस में शामिल होने को लेकर रोमांचित थी, लेकिन अब उनका भविष्य अधर में लटक गया है.

काबुल में एक उच्च शिक्षा संस्थान में बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के छात्र 20 वर्षीय हामिद ने कहा, “मैं चाहता था कि सफल होने और आगे बढ़ने के लिए मेरी बहन मेरे साथ-साथ अपने सपने पूरे करे. कई दिक्कतों के बावजूद वह 12वीं तक पढ़ी थी, लेकिन अब हम क्या कहें?”

पिछले साल अगस्त में सत्ता पर कब्जा करने वाले कट्टरपंथी इस्लामवादी सरकार द्वारा इस प्रतिबंध ने मुस्लिम राष्ट्रों सहित वैश्विक आक्रोश को जन्म दिया है. उन्होंने इसे इस्लाम के खिलाफ भी माना. तालिबान के उच्च शिक्षा मंत्री, नेदा मोहम्मद नदीम ने दावा किया कि महिला छात्रों ने एक सख्त ड्रेस कोड की अनदेखी की थी और परिसर में एक पुरुष रिश्तेदार के साथ जाने की जरूरत थी. लेकिन तालिबान के कुछ अधिकारियों के अनुसार, वास्तविकता यह है कि आंदोलन के सर्वोच्च नेता हिबतुल्ला अखुंदज़ादा को सलाह देने वाले कट्टर मौलवी महिलाओं के लिए आधुनिक शिक्षा को लेकर गंभीर रूप से संशय में रहते हैं.

लड़कियों को देश के अधिकांश हिस्सों में माध्यमिक विद्यालयों में जाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है. हाल के महीनों में महिलाओं को धीरे-धीरे सार्वजनिक जीवन से बाहर कर दिया गया है, सरकारी नौकरियों से निकाल दिया गया है या घर पर रहने के लिए अपने पूर्व वेतन के एक अंश का भुगतान किया गया है. उन्हें पुरुष रिश्तेदार के बिना यात्रा करने से भी रोक दिया गया है. साथ ही उन्हें सार्वजनिक जगह पर खुद को पूरी तरह से ढकना होगा. महिलाओं को पार्कों, मेलों, जिम और सार्वजनिक स्नानागार में जाने की मनाही है.

मारवा और हामिद एक गरीब परिवार से आते हैं, लेकिन उनके माता-पिता ने उच्च शिक्षा के लिए उनका समर्थन किया था. नर्स बनने के सपने के साथ, मारवा ने अफगानिस्तान के उन दूरदराज के इलाकों का दौरा करने की योजना बनाई थी, जहां महिलाएं स्वास्थ्य सेवाओं से वंचित रहती हैं. उन्होंने कहा, “मैं दूर-दराज के इलाकों में जाकर महिलाओं की सेवा करना चाहती थी, ताकि बच्चे को जन्म देने के दौरान मां की मौत न हो.”

Advertisement

इसके बजाय अब वह अपने छह छोटे भाई-बहनों को पढ़ाने के लिए घर पर रहेगी, जबकि उसके पिता, परिवार के एकमात्र कमाने वाले, सब्जी विक्रेता के रूप में पैसा कमाते हैं.

Advertisement

मंत्री नदीम ने जोर देकर कहा कि छात्राओं ने इस तरह से व्यवहार किया, जिससे इस्लामी सिद्धांतों और अफगान संस्कृति का अपमान हुआ. उन्होंने टीवी पर एक इंटरव्यू में कहा, “वे ऐसे कपड़े पहन रही थीं जैसे वे किसी शादी में जा रही हों. जो लड़कियां घर से विश्वविद्यालयों में आ रही थीं, वे भी हिजाब के निर्देशों का पालन नहीं कर रही थीं.”

लेकिन हामिद ने प्रतिबंध के औचित्य को दृढ़ता से खारिज कर दिया. उन्होंने कहा, “जब तालिबान के तहत विश्वविद्यालय खुले, तो लड़कों और लड़कियों के लिए अलग-अलग दिन तय किए गए. लड़कियों को तब तक प्रवेश करने की अनुमति नहीं थी, जब तक कि उन्होंने नकाब नहीं पहना था. फिर वे (तालिबान) कैसे कह सकते हैं कि वे बिना हिजाब के थीं?”

तालिबान द्वारा सत्ता पर कब्जा करने के बाद, विश्वविद्यालयों को नए नियमों को लागू करने के लिए मजबूर किया गया, जिसमें लड़का और लड़की के लिए अलग-अलग क्लास और प्रवेश द्वार शामिल थे, जबकि महिलाओं को केवल महिला प्रोफेसर या बूढ़े पुरुषों द्वारा पढ़ाने की अनुमति थी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button