देश

बहू-बेटे के झगड़े में सास-ससुर को घसीटना उचित नहीं, घरेलू हिंसा के केस में दिल्ली हाईकोर्ट ने की टिप्पणी

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : घरेलू हिंसा व दहेज प्रताड़ना जैसे मुकदमे में बुजुर्ग सास-ससुर को घसीटने के मसले पर टिप्पणी करते हुए अदालत ने कहा कि इस तरह के मामलों में बुजुर्गों से उनका चैन छीनना उचित नहीं। अगर झगड़ा बेटा-बहू का है, तो वह अपने स्तर पर निपटाएं। बुजुर्ग सास-ससुर को बिना कसूर झगड़े में शामिल न करें।

Advertisement

अदालत ने एक महिला की ससुराल के घर में रहने की मांग संबंधी अर्जी को खारिज करते हुए यह कहा। साकेत स्थित अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सुनील गुप्ता की अदालत ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि जब मकान पर मालिकाना हक बुजुर्ग दंपति का है, तो बेफजूल घर में अधिकार दिखाने का मतलब नहीं है।

Advertisement

बुजुर्ग दंपति अपने जीवन के संध्याकाल से गुजर रहा है। इन हालात में उन्हें शांतिपूर्वक जीने का हक है, लेकिन उन्हें अदालत में घसीटकर लाना और फिर घर में घुसकर भी उन्हें तंग करना उचित नहीं है। अदालत ने यह भी कहा कि साझा घर का मतलब होता है, वादी महिला के पति का उस संपति पर अधिकार होना।

जब यह संपति सास-ससुर की है, तो इसे साझा संपति नहीं कहा जा सकता। कोर्ट ने कहा कि एक ही घर की छत के नीचे रहने वाली महिला घरेलू हिंसा का आरेाप लगा सकती है। इसके लिए भी साक्ष्य चाहिए होते हैं, लेकिन जब वह घर या छत सास-ससुर की है तो वह उनकी सहमति के बिना जबरन उस घर में रहने का दावा नहीं कर सकती।

पति-पत्नी आपस में सुलझाएं मुद्दे

अदालत ने अपने आदेश में कहा है कि जहां विवाद पति-पत्नी के बीच हो, वहां परिवार के अन्य सदस्यों को बगैर पुख्ता आधार शामिल करना सही नहीं है। सिर्फ बुजुर्ग दंपति को इसलिए मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि उनके बेटा-बहू में आपसी विवाद है। अदालत ने कहा है कि वह अपने स्तर पर मामला सुलझाएं। बेवजह बुजुर्ग दंपति को इसका हिस्सा न बनाएं।

दो बार पहले भी खारिज हो चुकी है याचिका

Advertisement

इस मामले में अदालत दो बार पहले भी याचिका को खारिज कर चुकी है। इन आदेशों के खिलाफ ही महिला ने सत्र अदालत का रुख किया था। महिला का कहना है कि उसके पास रहने का ठिकाना नहीं है। वह ससुराल के घर में रहना चाहती है, जो कि साझा परिवार का घर है, लेकिन अदालत ने इस दलील को खारिज कर दिया है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button