देश

मेहमान आ रहे हैं, आपको दिक्कतें होंगी; पीएम मोदी ने दिल्ली के लोगों से क्यों मांगी माफी?

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : अगले महीने दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन होने वाला है। इसके चलते दिल्ली के लोगों को कुछ असुविधाएं हो सकती हैं। इसे देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को लोगों से इस आयोजन की सफलता के लिए सक्रिय रूप से योगदान देने की अपील की। पीएम मोदी दो देशों की यात्रा के बाद शनिवार को दिल्ली लौटे।

Advertisement

जहां हवाई अड्डे पर उनके स्वागत के लिए पहुंची लोगों की भीड़ को उन्होंने संबोधित किया। शिखर सम्मेलन का आयोजन राष्ट्रीय राजधानी में नौ और 10 सितंबर को किया जाएगा। इसमें 30 से अधिक राष्ट्राध्यक्षों, यूरोपीय संघ का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिकारियों, आमंत्रित अतिथि देशों और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के 14 नेताओं की उपस्थिति की उम्मीद है।

Advertisement

प्रधानमंत्री ने जी20 शिखर सम्मेलन के प्रबंध के कारण लोगों को हो सकने वाली असुविधा के लिए उनसे पहले से ही माफी मांगी। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘पूरा देश जी20 शिखर सम्मेलन का मेजबान है, लेकिन मेहमान दिल्ली में आ रहे हैं। दिल्लीवासियों पर इस जी20 शिखर सम्मेलन को सफल बनाने की विशेष जिम्मेदारी है।

उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि देश की प्रतिष्ठा पर तनिक भी आंच न आए।’’ उन्होंने स्वीकार किया कि दिल्लीवासियों को यातायात नियमों में बदलाव के कारण असुविधा झेलनी पड़ सकती है।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘पांच सितंबर से 15 सितंबर तक बहुत असुविधा होगी और उसके लिए मैं पहले से माफी मांगता हूं। वे हमारे मेहमान हैं। यातायात नियम बदल जाएंगे। आपको कई जगहों पर जाने से रोका जाएगा लेकिन कुछ चीजें जरूरी हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जी20 में दिल्लीवासियों की बड़ी जिम्मेदारी है। यह सुनिश्चित करना आपकी जिम्मेदारी है कि देश का तिरंगा शान से ऊंचा लहराता रहे।’’

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, अगले महीने जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान, लुटियंस दिल्ली तीन दिनों की अवधि के लिए अनधिकृत व्यक्तियों के लिए प्रतिबंधित रहेगी। नई दिल्ली जिले, राजघाट परिवेश और रिंग रोड सीमांकित विनियमित क्षेत्र को शामिल करते हुए कड़े यातायात नियम लागू किए जाएंगे, जो 8 सितंबर की रात 12 बजे से 10 सितंबर की रात 11.59 बजे तक प्रभावी रहेंगे।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button