छत्तीसगढ़

केन्द्रीय विद्यालय संगठन की हीरक जयंती पर हुआ भव्य आयोजन….

Advertisement

(आशीष मौर्य) : बिलासपुर – 15 दिसंबर को केंद्रीय विद्यालय संगठन के 61वें स्थापना दिवस के अवसर पर केन्द्रीय विद्यालय बिलासपुर में हीरक जयंती महोत्सव धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर विद्यालय में वार्षिक क्रीड़ा उत्सव, प्रदर्शनी, नवाचारी शिक्षा पर कार्यशाला एवं रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया।

Advertisement

विशिष्ट अतिथियों ने गौरवपूर्ण सहभागिता दी-
इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में विद्यालय के भूतपूर्व विद्यार्थियों को, जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में सफलता के शिखर को छुआ है, आमंत्रित किया गया। इनमें आशीष श्रीवास्तव, एडिशनल कमिश्मर एक्साइज , तृप्ति माहेश्वरी, डिप्टी मैनेजर, कंचन नायक, दहलीज़ वेलफ़ेयर की हीना खान, आदि की उपस्थिति रही। क्रीड़ा जगत से स्पोर्ट्स आर्गेनाइजर शरद राजेश हेनरी एवं शासकीय महाविद्यालय तखतपुर के क्रीड़ा अधिकारी डॉ बसंत अंचल की उपस्थिति रही।

Advertisement

शिक्षा का नवाचार सांस्कृतिक कार्यक्रम में भी दिखा-
कार्यक्रम में पधारे अतिथियों का स्वागत विद्यार्थियों ने अति विशिष्ट ढंग से किया। अतिथियों का स्वागत छत्तीसगढ़ के पारंपरिक लोकनृत्य सुआ गीत से किया गया। तत्पश्चात नन्हें बच्चों ने बंगाली लोकनृत्य प्रस्तुत किया। कत्थक व भरतनाट्यम की जुगलबंदी को सिद्धि एवं उनकी टीम ने शानदार अंदाज़ में प्रस्तुत किया।

Advertisement

केन्द्रीय विद्यालय के 60 वर्षों के शानदार सफर को लघुनाटिका के माध्यम समृद्धि, यामिनी, के दिव्या, अंशिका, अनुष्का, आकृति ने प्रस्तुत किया। सांस्कृतिक कार्यक्रम के अंतर्गत विद्यालय के विद्यार्थियों ने भारत की विविधरंगी संस्कृति की संक्षिप्त झाँकी प्रस्तुत की।

Advertisement

राजस्थानी, गुजराती, मराठी आदि लोकनृत्य की मनभावन प्रस्तुति दी। नन्हें-नन्हें बच्चों ने मनभावन नृत्य प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में ज्ञान, विज्ञान, योग एवं नृत्यकला का मनोहारी संगम नज़र आया। केन्द्रीय विद्यालय के बहुमुखी प्रतिभा सम्पन्न विद्यार्थियों ने आरंभ से अंत तक दर्शकों को बाँधे रखा।

वार्षिक क्रीड़ा उत्सव का हुआ आयोजन- वार्षिक क्रीड़ा उत्सव के अंतर्गत विद्यालय के चारों सदन- धरा,नभ, अग्नि व जलवायु सदन के मध्य विविध खेल स्पर्धाओं का आयोजन किया गया। इसमें रस्साकशी, जलेबी दौड़, पास द बॉल, बोरा दौड़, सौ एवं दो सौ मीटर दौड़, रिले रेस, वॉलीबॉल, थ्रो बाल आदि में प्रथम स्थान प्राप्त विद्यार्थियों एवं टीम को अति विशिष्ट ने अपने करकमलों से पुरस्कृत किया।

केन्द्रीय विद्यालय को सबने सराहा- विशिष्ट अतिथि आशीष श्रीवास्तव एवं तृप्ति माहेश्वरी ने अपने उद्बोधन में कहा कि हम केन्द्रीय विद्यालय देश का सर्वोत्कृष्ट शिक्षण संस्थान है, जो विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास हेतु कृत संकल्पित है। प्राचार्य धीरेन्द्र कुमार झा ने कहा कि केन्द्रीय विद्यालय लघु भारत को प्रतिबिंबित करता है। विद्यालय गीत में वर्णित “भारत का स्वर्णिम गौरव केंद्रीय विद्यालय लाएगा” को केन्द्रीय विद्यालय के विद्यार्थी अवश्य साकार करेंगे। केन्द्रीय विद्यालय बिलासपुर उत्तरोत्तर प्रगति पथ पर गतिमान है।

हमें पूर्ण विश्वास है कि यह विद्यार्थियों को उनके इच्छित एवं काम्य गंतव्य तक पहुँचाने में सहायक सिद्ध होगा।
विशिष्ट अतिथि राजेश हेनरी एवं वसंत अंचल ने अपने  उद्बोधन ने कहा कि क्रीड़ा उत्सव के अंतर्गत सभी स्पर्धाएं अत्यंत रोमांचक रहीं। वास्तव में खेलकूद बच्चों के शारीरिक व मानसिक विकास हेतु अत्यंत सहायक है। क्रीड़ा शिक्षक संतोष लाल ने वार्षिक क्रीड़ा प्रतिवेदन का वाचन किया तथा विद्यार्थियों को उनके उज्जवल भविष्य की मंगलमय शुभकामनाएं प्रेषित की।
कार्यक्रम का संचालन शैलजा श्रीवास्तव ने किया एवं आभार प्रदर्शन सौमेन दासगुप्ता द्वारा किया गया। कार्यक्रम की सफलता में विद्यालय के संगीत शिक्षक लक्ष्मण कौशिक की विशिष्ट भूमिका रही। इसके साथ ही अन्य शिक्षकों एवं कर्मचारियों ने सराहनीय भूमिका निभाई।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button