देश

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने पकड़ी अब तक की सबसे बड़ी ड्रग की खेप, पाकिस्तान से निकला कनेक्शन, 1725 करोड़ कीमत

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक बड़े ड्रग रैकेट का खुलासा किया है। पुलिस ने अब तक के इतिहास में सबसे बड़ा ड्रग कंसाइनमेंट पकड़ा है। स्पेशल सेल के स्पेशल CP एच.एस. धालीवाल ने बताया कि मुंबई के नवा शेवा पोर्ट के एक कंटेनर से हेरोइन की सबसे बड़ी बरामदगी हुई है। जब्त हेरोइन का वजन करीब 22 टन है जो लीकोरिस से लेपी गई थी। जब्त की गई हेरोइन की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में करीब 1,725 करोड़ रुपए है।

Advertisement

उन्होंने बताया कि इसको भेजने वाला अफगान नागरिक है जो पाकिस्तान में है। इस ड्रग को भेजने वाली कंपनी अफगानिस्तान की है और कंसाइनिंग कंपनी दुबई की है। यह हमारे पड़ोसी देश में स्थित एक पोर्ट से चला है। इसके पीछे अफगान नागरिक है जिसको गिरफ़्तार कर लिया है।

Advertisement

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा गत दिनों दिल्ली से गिरफ्तार किए गए दो अफगानी मूल के ड्रग्स तस्करों की निशानदेही पर 312.4 किलो मेथामफेटामाइन व 10 किलो हेरोइन की बरामदगी की थी। यह बरामदगी लखनऊ स्थित काकोरी में बनाए गोदाम व दिल्ली के बदरपुर में खड्डा कालोनी स्थित फैक्ट्री से की गई है। दिल्ली पुलिस ने अंतरराष्ट्रीय ड्रग्स तस्करों के कब्जे से यह अब तक की सबसे बड़ी बरामदगी होने का दावा किया है।

बरामद सिंथेटिक ड्रग्स की कीमत 1200 करोड़ रुपये होने का दावा किया गया है। कहा जा रहा है कि इस तरह के सिंडिकेट द्वारा ड्रग्स तस्करी से जुटाए गए पैसों का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए किया जाता है। ड्रग्स बेचकर जुटाए गए पैसे हवाला के माध्यम से तुर्की, पुर्तगाल, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान आदि देशों में भेजा जाता है।

अफगानिस्तान से यह ड्रग्स पहले पाकिस्तान फिर ईरान भेजा जाता था। ईरान के बंदरगाह से पानी के जहाज के जरिए बोरे में भरकर ड्रग्स चेन्नई लाया जाता था। चेन्नई से सड़क मार्ग के जरिए तस्कर देश के विभिन्न राज्यों में अपने ठिकाने पर ले जाते थे। पिछले माह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निर्देश पर यूएपीए कानून के तहत नार्को टेररिज्म पर दर्ज की गई प्राथमिकी की जांच के दौरान स्पेशल सेल को इस सिंडिकेट के बारे में जानकारी मिली।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button