देश

गुजरात में जहरीली शराब पीकर मरने वालों की संख्या 24 हुई…40 से अधिक अस्पताल में भर्ती

अहमदाबाद – गुजरात में जहरीली शराब से मरने वालों का आंकड़ा 24 पहुंच गया है। बोटाद के बरवाला के अलावा मरने वालों में अहमदाबाद के 4 लोग भी शामिल हैं। रविवार रात को बोटाद में जहरीली शराब पीने के बाद करीब 4 दर्जन लोगों की तबीयत खराब हुई जिन्हें सोमवार सुबह अस्पताल में भर्ती कराया गया।

Advertisement

शाम होते-होते जहरीली शराब के कारण लोगों के मरने की खबर आने लगी। भावनगर रेंज आईजी अशोक यादव ने इस घटना की जांच के लिए एक स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) का गठन किया है। पुलिस उपाधीक्षक इसका नेतृत्व करेंगे।

Advertisement

विधानसभा से पूर्व हुई इस जहरीली शराब कांड के कारण विपक्ष में सत्ताधारी भाजपा पर सीधे भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा है कि गांधी जी के गुजरात में शराबबंदी होने के बावजूद गांव-गांव में अवैध शराब के अड्डे खुल गए हैं।

Advertisement

नेता व पुलिस अधिकारी की मिलीभगत के कारण अवैध शराब का कारोबार चल रहा है। भावनगर के रेंज आईजी अशोक यादव ने जांच के लिए एफएसएल की टीम को भी गांधीनगर से बुलाया है एफएसएल की टीम शराब के नमूने लेकर उसमें मिलाए गए केमिकल की जांच करेगी। घटना की जानकारी के बाद एटीएस के डीआईजी दीपेन भद्रन भी बरवाला के रोजिद गांव पहुंचे।

भावनगर से बरवाला पहुंचे पुलिस अधीक्षक सुनील जोशी अपने साथ अन्य पुलिस अधिकारियों के अलावा एंबुलेंस आदि भी लेकर गए रात को ही बरवाला के अस्पताल में भर्ती बीमार लोगों को भावनगर के सिविल अस्पताल पहुंचाया गया।

धंधुका के विधायक राजेश गोहिल ने दावा किया है कि अहमदाबाद जिले की दम डूबा तहसील के कई गांव में अब तक एक दर्जन लोगों की मौत हुई है तथा दो दर्जन लोगों की हालत खराब है।

उधर पुलिस ने गांव में देसी शराब बनाने वाले आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है ऐसा कहां जा रहा है कि बोटाद नबुई चौकड़ी के पास एक मकान में अवैध देसी शराब का कारोबार चलता है। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल भी गुजरात दौरे पर हैं तथा उन्होंने इस शराब कांड पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि गुजरात में शराबबंदी है।

इसके बावजूद ऐसी घटनाएं दुर्भाग्यपूर्ण है। शराबबंदी होने के बावजूद सब लोग जानते हैं कि राज्य में अवैध रूप से शराब बिकती है लेकिन सवाल यह है कि किन लोगों के संरक्षण में अवैध शराब का कारोबार बेधड़क चलता है।

Advertisement

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता मनीष दोषी एवं प्रवक्ता मनहर पटेल ने भाजपा सरकार को दोषी बताते हुए कहा है कि सरकार की भ्रष्ट नीति के कारण राज्य में गांव से गांधीनगर तक भ्रष्टाचार फैला है।

Advertisement

आम आदमी का जीना मुश्किल हो गया है माफिया व अवैध शराब का कारोबार करने वाले लोग पुलिस अधिकारियों को भी धमकाने लगे हैं। महात्मा गांधी के गुजरात में राज्य की स्थापना के साथ ही शराब बंदी लागू की गई थी लेकिन भाजपा की भ्रष्ट नीति के कारण आज शराब का कारोबार फल-फूल रहा है।

कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया है कि अवैध शराब के कारण नेताओं एवं अधिकारियों को करोड़ों रुपए पहुंचते हैं इसलिए इसे रोकने के लिए कोई उपाय नहीं किए जाते।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button