बिलासपुर

4 करोड़ रुपए में बने एनीकट में 2 माह के भीतर ही दिखने लगी दरारें.. जगह जगह सीपेज, सीमेंट के घोल से हो रही लीपापोती.. कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर से की गई शिकायत

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर। अगर कोई आपसे यह कहे कि मात्र दो तीन माह पहले अक्टूबर 2021में लगभग 4 करोड रुपए की लागत से बनकर तैयार हुए एनीकट में दरारें आ गई हैं। और जगह-जगह से सीपेज भी हो रहा है..तब शायद आप इस पर विश्वास ना करें…लेकिन, बिलासपुर जिले के तखतपुर जनपद पंचायत के भिलौनी ग्राम पंचायत क्षेत्र में घोंघा नदी पर बने एनीकट के निर्माण में भ्रष्टाचार का ऐसा ही तिलस्म कर घटिया निर्माण से लाखों रुपए का वारा न्यारा किया गया है । निर्माण कार्य में हुए लंबे भ्रष्टाचार और गोलमाल के कारण बनने के दौरान ही और उसके एक दो माह में ही दीवारों की दरारों और सीपेज के कारण एनीकट की हालत पूरी तरह जर्जर हो गई है। नीरा कंस्ट्रक्शन नामक कंपनी को इसके निर्माण की जिम्मेदारी या ठेका दिया गया था। अब उक्त ठेका कंपनी के द्वारा कितना घटिया काम किया गया हुआ इसका अनुमान निर्माण के 2 माह के भीतर ही जर्जर हो रहे एनीकट की हालत से साफ दिख रहा है। जाहिर है कि इस एनीकट के निर्माण में घटिया एवं गुणवत्ता विहीन सामग्री का उपयोग किया गया। जिसके कारण निर्माण पूर्ण होने के पहले ही एनीकट की दीवारों में दरारें आ चुकी थीं। और अब तो जगह-जगह दरारें तथा सीपेज दिखाई दे रहा है। ठेका कंपनी के द्वारा सीपेज और दरारों को छुपाने के लिए सीमेंट के गोल और ब्रश से पुताई कर लीपापोती की कोशिश की जा रही है। जाहिर है कि ठेका कंपनी द्वारा किए गए इस घटिया काम में संबंधित इंजीनियर और उसके ऊपर नीचे के अधिकारियों की मिलीभगत होगी। तभी इतना घटिया काम किया गया है। भिलौनी ग्राम पंचायत के उप सरपंच द्वारा कुछ ग्रामीणों के साथ कलेक्टर से इसकी शिकायत भी की गई है। यह उम्मीद की जानी चाहिए कि कलेक्टर डॉक्टर सारांश मित्तर अपने अधीनस्थ अधिकारियों को इस मामले की जांच और घटिया निर्माण कार्य के लिए दोषी लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश देंगे।

Advertisement

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button