देश

कांग्रेस पार्षद हत्याकांड की सीबीआई जांच..शुरू होने के पहले ही मुख्य गवाह की हुई हत्या

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : पश्चिम बंगाल में राजनीतिक का रक्त चरित्र, बदलने का नाम नहीं ले रहा है। वहां कांग्रेसी एक पार्षद की हत्या की सीबीआई जांच शुरू हो पाती इसके पहले ही इस हत्याकांड के मुख्य गवाह को मार डाला गया है। बंगाल के पुरुलिया जिले में कांग्रेस पार्षद तपन कांदू की हत्या की सीबीआइ जांच शुरू होने के बीच इस घटना का एक चश्मदीद बुधवार सुबह संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाया गया। पुलिस ने कहा कि कांदू के करीबी सहयोगी निरंजन वैष्णव का शव झालदा के बैशबपारा में उनके घर में छत से लटका मिला।एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जिस कमरे में उसका शव मिला है, वहां से कथित तौर पर शिक्षक वैष्णव द्वारा लिखा गया एक सुसाइड नोट भी बरामद किया गया है।

Advertisement

उन्होंने कहा, हमने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। हम मामले की जांच कर रहे हैं। पुलिस सूत्रों का कहना है कि इस नोट में, वैष्णव ने कथित तौर पर दावा किया है कि कांदू की हत्या के सिलसिले में पुलिस द्वारा बार-बार फोन करने के कारण वह गंभीर तनाव में था।नोट में कहा गया है, जिस दिन से मैंने तपन की मौत देखी, मैं मानसिक तनाव में हूं। उसकी मौत का दृश्य मेरे दिमाग में हर पल आ रहा है। पुलिस के बार-बार फोन करने से मानसिक तनाव बढ़ जाता है। आगे इसमें लिखा गया है, मैंने अपने जीवन में कभी किसी पुलिस स्टेशन का दौरा नहीं किया। यह असहनीय होता जा रहा है। मैंने यह फैसला खुद किया है और किसी ने मुझे अपनी जान लेने के लिए मजबूर नहीं किया।

Advertisement

बताते चलें कि वैष्णब का शव उस दिन मिला है, जब कांग्रेस ने कांदू की हत्या को लेकर झालदा में बुधवार को 12 घंटे का बंद भी बुलाया है। इसके साथ ही कलकत्ता उच्च न्यायालय के निर्देश के बाद सीबीआइ की टीम इस हत्या की जांच अपने हाथ में लेने के लिए बुधवार को झालदा पहुंचने वाली थी। इसके पहले ही यह हादसा हो गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button