रायपुर

भाजपा आरक्षण किलर पार्टी, मोदी कैरियर किलर पीएम..कांग्रेस

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : रायपुर – पत्रकारों से चर्चा करते हुए प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल की पत्रकार वार्ता से स्पष्ट हो गया कि भाजपा नहीं चाहती कि राजभवन आरक्षण विधेयक पर हस्ताक्षर करे। बृजमोहन अग्रवाल ने अपनी पत्रकार वार्ता में एक बार भी नहीं कहा कि आरक्षण विधेयक पर तत्काल निराकरण हो। वे बार-बार विधेयक के संबंध में अनावश्यक बातें करते रहे लेकिन विधेयक पर राजभवन हस्ताक्षर करे? हस्ताक्षर क्यों नहीं हो रहा? इस संबंध में भाजपा की ओर से कुछ नहीं कहा गया। यह इस बात को साबित करने के लिये पर्याप्त है कि भाजपा आरक्षण विधेयक को कानून बनने से रोकने का मंशा रखती है। भाजपा आरक्षण किलर पार्टी, मोदी कैरियर किलर पीएम है। राज्यपाल ने खुद होकर हस्ताक्षर करने की बात कहा था फिर विधेयक क्यों रुका है? किसके कहने पर रुका है? सरकार के 10 सवालों के जवाब के बाद भी हस्ताक्षर क्यों नहीं हो रहा है? यह सब भाजपा की साजिश है। भाजपा कांग्रेस को श्रेय न मिले इसलिये हस्ताक्षर नहीं होने दे रही है।

Advertisement


कांग्रेस पार्टी मांग करती है कि भाजपा आरक्षण विधेयक पर अपना मत स्पष्ट करें वह आरक्षण संशोधन विधेयक के किस पहलू से असहमत और क्यों राजभवन में आरक्षण संशोधन विधेयक पर हस्ताक्षर नहीं होने दे रही है?
भाजपा को आदिवासी समाज को दिये गये 32 प्रतिशत आरक्षण पर आपत्ति है अथवा वह अन्य पिछड़ा वर्ग के लिये किये गये 27 प्रतिशत आरक्षण से असहमत है? भाजपा को इस बात का विरोध है कि नये आरक्षण विधेयक में अनुसूचित जाति के लिये किये गये 13 प्रतिशत आरक्षण के लिये विरोध कर रही है? या गरीब सवर्णों के 4 प्रतिशत आरक्षण के विरोध में भाजपा है। भाजपा की नीयत आरक्षण पर शुरु से संदिग्ध है।

Advertisement


बिलासपुर हाईकोर्ट में 58 प्रतिशत आरक्षण को बचाने के लिये तत्कालीन भाजपा सरकार ने ननकीराम कंवर की कमेटी और मुख्य सचिव की कमेटी की सिफारिशों को अदालत के सामने क्यों नहीं रखा? इन कमेटियों के बारे में छुपाने की भाजपा की क्या मंशा थी? ननकी राम कंवर कमेटी के सदस्य बृजमोहन अग्रवाल और केदार कश्यप भी थे बताये क्या छुपाने कमेटी को अदालत के सामने नहीं लाये?


जो आरक्षण संशोधन विधेयक छत्तीसगढ़ विधानसभा में पारित हुआ है। वह पूरी तरह से विधिसम्मत, न्याय संगत और तर्क संगत है। इस विधेयक को छत्तीसगढ़ विधानसभा ने सर्वसम्मति से पारित किया है अर्थात् राज्य की शत प्रतिशत जनता इसके समर्थन में है। इसको रोकना जनमत का अपमान है।

पत्रकार वार्ता में प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर, प्रदेश सचिव अजय साहू, मणी प्रकाश वैष्णव, आयुष पांडेय उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button