छत्तीसगढ़बिलासपुर

अहा.मेरी तो घड़ी बंद है..
तेरी यह अदा मुझे पसंद है.. बंद है नगर घड़ी..क्या घड़ी का बंद होना अशुभ माना जाता है..?

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर। आपने एक पुरानी फिल्म का यह हिट गाना तो सुना ही होगा। जिसमें घड़ी के बंद होने का जिक्र बड़ी शिद्दत से हीरोइन के द्वारा किया जाता है। खैर यह तो हुई फिल्म की बात.. अब जरा जमीनी धरातल की बात करें तो बहुत से लोग कहते हैं कि घड़ी का बंद होना अशुभ होता है। इसलिए बैटरी खत्म होने या अन्य किसी कारण से घड़ी बंद होने पर आपने भी लोगों को टोका-टोकी करते देखा होगा।

Advertisement

लेकिन बिलासपुर शहर के नेहरू चौक में लगी घड़ी जिस दिन से स्थापित हुई है। उसी दिन से पता नहीं इसे किसकी नजर लगी हुई है। यह हर समय, दो चार हफ्ते ठीक से चल कर फिर या तो बंद हो जाती है या गलत समय बताने लग जाती है। जैसे कि हम कह चुके हैं कि घड़ी का बंद होना अशुभ माना जाता है।

Advertisement

बिलासपुर में एक तो वैसे ही कई तरह के अलहन और गंभीर समस्याएं विकराल रूप धारण किए हुए हैं। ऐसे में नगर घड़ी का बंद होना किस ओर इशारा कर रहा है इसे बड़े बुजुर्ग ही बता सकते हैं।

Advertisement

वैसे एक सामान्य की बात है अगर बिलासपुर में नेहरू चौक पर नगर घड़ी स्थापित की गई है तो उस घड़ी को हमेशा चलते रहना चाहिए।

Advertisement
Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button