बिलासपुर

मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल का औचक निरीक्षण करने के बाद टीएस सिंहदेव ने कहा…. यदि बिलासपुर पुलिस ने अपना काम ठीक से किया होता, तो हत्या की वारदात नहीं होती..!

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर – प्रदेश के स्वास्थ्य और जीएसटी मंत्री टीएस सिंहदेव कोनी स्थित निर्माणाधीन मल्टीस्पेशिलिटी अस्पताल देखने पहुंच गए। पूरे 11 मंजिला भवनन का टीएस सिंहदेव ने विधायक शैलेष पाण्डेय समेत डाक्टर और इंजीनियर के साथ भ्रमण किया। पत्रकारों से बातचीत कर केन्द्र सरकार के छत्तीसगढ़ के प्रति दोहरे रवैये को सामने रखा। सिंहदेव ने केन्द्र सरकार की बन्दे भारत योजना को बन्दे भाजपा योजना बताया। उन्होने कहा कि दरअसल भाजपा और केन्द्र सरकार प्रोटोकाल और शिष्टाचार को भूल गयी है। अच्छा होता कि प्रधानमंत्री बिलासपुर जोन से बन्दे भारत को हरी झण्डी दिखाते। या फिर जोन में एक कार्यक्रम का आयोजन होता।

Advertisement


रायपुर से बिलासपुर प्रवास के दौरान प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव औचक निरीक्षण करने कोनी स्थित निर्माणाधीन मल्टीसुपर स्पेशलिटी अस्पताल को देखने पहुंच गए। खबर मिलने के बाद अस्पताल के डाक्टर,साइट इंजीनियर भी पहुंच गए। सिंहदेव ने एक से लेकर 11 तक सभी मंजिलों का भ्रमण किया। एक एक निर्माण कार्य का जायजा लिया। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने लिफ्ट का भी सहारा नहीं लिया। अधिकारी और इंजीनियर सीढ़ियां चढ़ने के दौरान कभी थके हुए नजर आए।

Advertisement


सिंहदेव ने कहा कि बिल्डिंग को दिसम्बर तक बनकर तैयार हो जाना चाहिए था। लेकिन अब बताया जा रहा है कि तीन महीने में निर्माण कार्य पूरा कर शासन के हवाले किया जाएगा। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि 31 मार्च तक काम पूरा हो पाएगा। निरीक्षण और बातचीत के दौरान पता चला कि निर्माण के दौरान समन्वय की कमी है। हमने निर्माण कार्य से जुड़े सभी लोगों को 21 दिसम्बर को रायपुर बुलाया है। और बिल्डिंग कब तक पूरी होगा..क्या कुछ कमी है बातचीत से स्पष्ट होगा। लेकिन इतना तो निश्चित है कि बिल्डिंग ने आकार पूरा ले लिया है। अस्पताल बन जाने के बाद आम जनता की गंभीर से गंभीर बीमारियों का इलाज अब मुम्बई दिल्ली नही बल्कि बिलासपुर में होगा।

Advertisement


वंन्दे भारत नहीं..ऐसा लगता है कि सिर्फ वन्दे भाजपा का कार्यक्रम है। यही कारण है कि केन्द्र सरकार ने प्रोटोकाल का पालन नहीं किया। ना ही शिष्टाचार ही दिखाया। केन्द्र को इस बात का भी ख्याल नहीं कि मण्डल कहा है..जोन कहा है। कार्यक्रम में रायपुर और बिलासपुर को क्यों वंचित किया गया। ट्रेन जहां से चालू हुई वहां कार्यक्रम तो करते ही। जोन होने के कारण जहां ट्रेन का अंतिम स्थान है वहां भी कार्यक्रम का आयोजन करना चाहिए था। जोन होने के कारण बिलासपुर में कार्यक्रम का आयोजन किया जाना चाहिए था।

टीएस सिंहदेव ने कहा कि प्रदेश में अपराध का होना चिंताजनक है। उन्होने दुहराया कि आकस्मिक घटना को नियंत्रित नहीं किया जा सकता है। लेकिन कुछ घटनाएं ऐसी भी होती है जिसे पूर्व सूचना के आधार पर रोका जा सकता है। उन्होंने कहा कि बिलासपुर पुलिस का सूचना तंत्र कमजोर है। श्री सिंहदेव ने बिना नाम लिए कहा कि बिलासपुर में हुई (संजू त्रिपाठी की) हत्या को रोका जा सकता था। जानकारी मिल रही है कि परिवार के बीच तनाव और कुछ घटनाएं हुई थी। मामले की जानकारी पुलिस तक पहुंची। लेकिन पुलिस ने अपना काम ठीक से नही किया। यदि किया गया होता तो हत्या की वारदात तो नहीं ही होती।

क्या राजनीतिक दल शिष्टाचार भूल गए है। कुकुर बिलई का संबोधन किया जा रहा है। टीएस सिंहदेव ने कहा कि अफसोस होता है। कहा जाता है कि प्रगति हो रही है। जागरूक हो रहे हैं। हम बेहतर समाज बना रहे है। यदि यह बेहतर समाज है तो हम लोगों को कुछ साल पहले ही चले जाना चाहिए था।
11 मंजिल निर्माणाधीन भवन निरीक्षण के दौरान स्वास्थ्य मंत्री काफी तरोकताजा और जवान नजर आए। 11 मंजिल तक सीढ़ियों से चलकर निरीक्षण किया। अस्पताल का एक एक कोना टीएस सिंहेदव ने देखा। इस दौरान विधायक शैलेष पाण्डेय, और पीडब्लूडी विभाग के इंजीनियर डाक्टर सहारे भी मौजूद थे। सीढयां चढ़ने के दौरान बाबा तरोताजा और जवानो के चेहरे पर पसीना बहते देखा गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button