देश

सिक्किम में अब तक 40 की मौत….भारी बाढ़ के बाद पर्यटकों के लिए चेतावनी

Advertisement

सिक्किम में आई भारी बाढ़ ने काफी कहर ढाया है। अभी तक 40 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा तीस्ता नदी से 22 शव निकाले जा चुके हैं। आर्मी हेलीकॉप्टर से बचाव अभियान को अंजाम देने में लगी हुई है। इस बीच सिक्किम सरकार ने फिर से ग्लेशियर झील में विस्फोट की चेतावनी जारी की है। पर्यटकों से कहा गया है कि अगर सिक्किम जाने की योजना बना रहे हैं तो यात्रा कुछ दिन के लिए टाल दें।

Advertisement

खाली कराए जा रहे इलाके
लाचेन के करीब शाको चो लेक में विस्फोट का डर है। इसको देखते हुए अधिकारी आसपास के इलाकों को खाली कराने में जुटे हुए हैं। इसके अलावा बाढ़ के दौरान एक आर्मी कैंप से बम और हथियार भी बह गए हैं। इन हथियारों के भी फटने का डर है। सिक्किम के चीफ सेक्रेट्री विजय भूषण पाठक ने बताया कि करीब 3000 लोग लाचेन और लाचुंग में फंसे हुए हैं। 3150 लोग यहां पर मोटरसाइकिल से गए थे और फंस गए हैं। विजय भूषण ने बताया कि इन लोगों को आर्मी और एयरफोर्स के हेलीकॉप्टर से निकाला जा रहा है।

Advertisement

बड़े पैमाने पर तबाही
बता दें कि सिक्किम के ऊपरी इलाकों में ग्लेशियर झील के फटने से अचानक बाढ़ आ गई। इसके बाद ग्लेशियर झील फट गई, जिससे चुंगथांग बांध से पानी छोड़ा गया और तीस्ता नदी का जलस्तर बुधवार सुबह काफी बढ़ गया, जिससे हिमालयी राज्य में बड़े पैमाने पर तबाही हुई। सेना बुधवार सुबह से लापता सैनिकों की बड़े पैमाने पर तलाश कर रही है। वहीं, त्रिशक्ति कोर के जवान उत्तरी सिक्किम के चुंगथांग, लाचुंग और लाचेन के प्रभावित क्षेत्रों में फंसे नागरिकों और पर्यटकों को चिकित्सा सहायता और टेलीफोन कनेक्टिविटी मुहैया करा रहे हैं।

सरकार की नजर
इस बीच सरकारी बिजली कंपनी एनएचपीसी अपने जलविद्युत संयंत्रों को फिर से खोलने के लिए प्रयासरत है। मंत्रालय इस चीज पर बारीकी से नजर रख रहा है कि अचानक बाढ़ के बाद तीस्ता बेसिन में क्या हो रहा है। बिजली मंत्रालय ने कहा कि वह बाढ़ का पानी घटने के बाद सिक्किम में पनबिजली परियोजनाओं को हुए नुकसान का आकलन करेगा।

3-4 अक्टूबर की रात अचानक आई बाढ़ ने तीस्ता-वी पनबिजली स्टेशन के नीचे की ओर तारखोला और पमफोक तक के सभी पुलों को जलमग्न कर दिया या बहा दिया। तीस्ता-वी पनबिजली स्टेशन पर फिलहाल बिजली उत्पादन नहीं हो रहा है। एनएचपीसी ने अपनी परियोजनाओं से सभी कर्मचारियों को निकाल लिया है और उन्हें सुरक्षित जगह पहुंचा दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button