देश

चुनाव प्रचार के लिए पश्चिम बंगाल क्यों नहीं जा रहे हैं यशवंत सिन्हा…कहीं ममता का डर तो नहीं..!

(शशि कोन्हेर) : राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार के लिए आगामी शनिवार को भाजपा नीत राजग प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू  कोलकाता आ रही हैं। वहीं दूसरी ओर विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा चुनाव प्रचार के लिए झारखंड के बाद बंगाल भी नहीं आएंगे। खबर है कि सिन्हा ने स्वयं कहा है कि वह प्रचार के लिए बंगाल नहीं जा रहे हैं। ऐसे में अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या मुख्यमंत्री व तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी ने यशवंत सिन्हा को चुनाव प्रचार के लिए बंगाल आने से रोक दिया है?

Advertisement

यह सवाल इसलिए भी अमह हो गया है कि ममता ने इससे पहले एक जुलाई को रथयात्र के दिन ही यह कहकर सिन्हा समेत पूरे विपक्ष को जबर्दस्त झटका दे दिया था कि अगर भाजपा पहले बता देती कि वह द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाने वाली है, तब विपक्ष भी समर्थन में रहता।

Advertisement

ममता ने कहा कि चूंकि विपक्ष ने एक साझा प्रत्याशी के तौर पर यशवंत सिन्हा का चयन कर लिया है, इसलिए अब चुनाव में मुर्मू का विरोध और सिन्हा का साथ देना उनकी मजबूरी है। ममता का यह कहना कि वह यशवंत का साथ मजबूरी में देंगी, सिन्हा के लिए किसी झटका से कम नहीं हो सकता है।

Advertisement

यही ही नहीं वे अपने ही गृह प्रदेश झारखंड में भी प्रचार नहीं करेंगे। सूत्रों ने बताया कि यशवंत सिन्हा ने बंगाल की यात्रा को लेकर खुद कहा है कि वे वहां नहीं जाएंगे, क्योंकि ममता बनर्जी ने उन्हें आश्वासन दिया है कि वह सब संभाल लेंगी। सिन्हा को कोलकाता आने से रोकने के पीछे ममता की रणनीति हो सकती है।

क्योंकि वह नहीं चाह रही है कि बंगाल के आदिवासी समाज के बीच यह संदेश जाए कि वह और उनकी पार्टी एक आदिवासी महिला का विरोध कर रही है। राष्ट्रीय आदिवासी समागम (दरबार) की ओर से शुक्रवार को कोलकाता प्रेस क्लब में एक संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया है।

जिसमें झारखंड बिहार उड़ीसा पश्चिम बंगाल के सभी आदिवासी संगठनों के नेता मौजूद रहेंगे और वे सभी राजनीतिक दलों से द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति चुनाव में सर्वसम्मति से निर्वाचित करने की अपील करेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button