छत्तीसगढ़

जिला पंचायत की बैठक में हंगामा क्यूं बरपा..जानिए.. यहां…!

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : बिलासपुर : जिला पंचायत बिलासपुर में सामान्य सभा की बैठक आयोजित की गई। बैठक शुरुआत से ही हंगामेदार रही  इस बैठक में मुख्य रूप से जिला पंचायत के अध्यक्ष अरुण सिंह चौहान, जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा, जितेंद्र पांडे राजेश्वर भार्गव,जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुश्री जैन व अन्य विभागों के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहें।

Advertisement


जिला पंचायत बिलासपुर में सभी निर्वाचित सदस्य अधिकारियों,कर्मचारियों के लिए एक बैठक व्यवस्था बनाई गई है। उसी क्रम के अनुसार जनप्रतिनिधि व अधिकारी बैठक में उपस्थित होकर अपनी बात रखते हैं। पर इसका पूरा ज्ञान बसपा से आकर भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने वाले जनपद उपाध्यक्ष विक्रम सिंह को शायद नहीं था। इसी कारण वे जाकर विधायक के लिए तयशुदा स्थान पर बैठ गए। जब जिला पंचायत अध्यक्ष अरुण सिंह चौहान ने इस पर आपत्ति की तब जनपद उपाध्यक्ष ने जमकर हंगामा किया। इस हंगामे के कारण सदन का कामकाज 1 घंटे तक नहीं हो पाया।

Advertisement

जबकि वहां 22 जिला पंचायत सदस्य अपने क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को लेकर सदन में अपनी बात रखने आए थे। परंतु बैठने की जगह को लेकर हुए हंगामे से अपनी बात रख पाए। वहां हुए हंगामे का विरोध करते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष ने 10 मिनट के लिए सभा भी स्थगित की। और इसके बाद जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा ने प्रशासन के उच्च अधिकारियों को अवगत कराने का प्रयास किया व उपाध्यक्ष द्वारा सदन में किए जा रहे दुर्व्यवहार से अवगत कराया गया।

तब जनपद उपाध्यक्ष को भारतीय जनता पार्टी के विधायक और जिला पंचायत सदस्यों का साथ मिलने की उम्मीद थी। लेकिन वे सभी इस पचड़े से तटस्थ रहे। मामला अपने अनुकूल ना होता देख जनपद उपाध्यक्ष बैठक छोड़कर निकल गए। और भारतीय जनता पार्टी के मस्तूरी विधायक कृष्णमूर्ति बांधी व भाजपा के सभी जिला पंचायत सदस्यों ने बैठक में पूरे समय भाग लिया और अपने क्षेत्र की समस्याओं को गंभीरता से रखा ।

जिला पंचायत सामान्य सभा की बैठक में जिला पंचायत अध्यक्ष अरुण सिंह चौहान ने लोक निर्माण विभाग व शिक्षा विभाग से संबंधित समस्याओं पर अपनी बात रखी इसी तरह जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा उर्तूम से लगरा सड़क,पौंसरा उप स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर की समस्या के साथ ही कई अन्य विषयों समस्याओं को सदन के पटल पर रखा।

बैठक के दौरान बिल्हा जनपद पंचायत में लगातार हो रहे व्यापक भ्रष्टाचार पर भी लंबी चर्चा हुई। बिल्हा जनपद पंचायत सीईओ बी आर वर्मा व पंचायत इंस्पेक्टर जहर सिंह क्षत्रिय पर लेन देन कर सचिव का ट्रांसफर किए जानें के आरोप पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत सीईओ ने नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगा हैं।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button