खेल

कपिल देव ने क्रिकेटर्स को क्यों कहा…तो जा़ओ केले की दुकान लगाओ और अंडे  बेचो..!

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : 1983 के वर्ल्ड कप विजेता कप्तान कपिल देव ने हाल ही में मेंटल हेल्थ और प्रेशर को लेकर एक बयान दिया था. इस पर काफी आलोचना भी हुई थी. मगर अब भी कपिल देव अपने इस बयान पर अडिग हैं. उन्होंने एक बार फिर भारतीय क्रिकेटर्स के प्रेशर झेलने, मेंटल हेल्थ और वर्कलोड मैनेजमेंट को लेकर सख्त बयान दिया है.

Advertisement

कपिल देव ने कहा है कि 100 करोड़ की आबादी वाले देश में 20 लोगों को देश के लिए क्रिकेट खेलने का गौरव मिलता है. ऐसे में उन्हें गर्व होना चाहिए. खुश होना चाहिए ना कि यह कहना चाहिए कि प्रेशर है. कपिल देव ने कहा कि यदि क्रिकेटर्स को प्रेशर ज्यादा ही लग रहा है, तो उनसे कोई खेलने के लिए नहीं कह रहा है. वे जाकर केले और अंडे की दुकान भी लगा सकते हैं.

Advertisement

कोलकाता के एक प्रोग्राम में बोलते हुए कपिल देव ने कहा, ‘IPL खेलते हैं. बहुत प्रेशर है. ये वर्ड बहुत कॉमन है ना. बहुत प्रेशर है. तो हम कहते हैं मत खेलो. कौन तुम्हें कह रहा है खेलने के लिए. प्रेशर है, तो इज्जत भी आपको मिलेगी. गालियां भी आपको मिलेंगी. यदि  आप डरते हैं गालियों से तो मत खेलो. आप देश को रिप्रेजेंट कर रहे हो और आपको प्रेशर है. कैसे हो सकता है. 100 करोड़ लोगों में से आप 20 लोग खेल रहे हो और बोल रहे हो प्रेशर है.’

देश के लिए खेलने पर अपने आप में इज्जत होनी चाहिए

कपिल देव ने कहा, ‘बोलो कि ये तो बहुत इज्जत वाली बात है. बहुत प्यार मिल रहा है कि इतने ज्यादा लोगों में मुझे हिंदुस्तान के लिए खेलने को मिल रहा है. अपने आप में इज्जत होनी चाहिए कि हां मैं देश के लिए खेल रहा हूं. ये जो प्रेशर है, ये अमेरिकन वर्ड है. आपको काम नहीं करना है, मत करो, किसी ने फोर्स थोड़े किया है. जाकर केले की शॉप लगा. अंडे बेचो जाकर.’

उन्होंने अपनी बात रखते हुए आगे कहा, आपको किसी के लिए मौका मिला है, तो क्यों उसे प्रेशर कहते हो. कहो कि हमें अपने काम में बहुत मजा आता है. जिस दिन आप अपने काम में मजा लेना शुरू कर दोगे, तो मजा आने लगेगा. उसी काम को प्रेशर कहोगे, तो कुछ नहीं हो सकता.’

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button