देश

खालिस्तान मसले पर अमेरिका क्यों हो गया एक्टिव….FBI ने कई उग्रवादियों से मुलाकात भी की

Advertisement


(शशि कोन्हेर) खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बाद भारत और कनाडा के संबंध तनावपूर्ण हो चुके हैं। कनाडा ने भारतीय एजेंटों पर निज्जर की हत्या का आरोप लगाया है। हालांकि, इस मामले में अभी तक कोई सबूत नहीं पेश किया है। इस सबके बीच अमेरिका के स्टैंड पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं। आपको बता दें कि हल के कुछ वर्षों में भारत से अपने संबंधों को प्रगाढ़ करने वाला अमेरिका इस मामले पर मिश्रित प्रतिक्रिया दे रहा है। हालांकि, वह अब अधिक एक्टिव नजर आने लगा है। कल कनाडा में तैनात अमेरिकी राजदूत ने कहा कि प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडू ने जो आरोप लगाए हैं, वह खुफिया जानकारी के आधार पर थे।

Advertisement

अब खबर आ रही है कि अमेरिका की खुफिया एजेंसी एफबीआई अचानक खालिस्तान मामले पर एक्टिव हो गई है। हाल के दिनों में कई उग्रवादियों से मुलाकात भी की है। इतना ही नहीं, एफबीआई ने उन खालिस्तानी उग्रवादियों को चेतावनी दी है कि निज्जर की तरह उनकी भी हत्या की जा सकती है।

Advertisement

आपको बता दें कि प्रतिबंधित खालिस्तान टाइगर फोर्स (केटीएफ) के प्रमुख हरदीप सिंह निज्जर की 18 जून को कनाडा के सरे में एक गुरुद्वारे के बाहर दो अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उसकी हत्या के बाद भारत और कनाडा के बीच राजनयिक विवाद पैदा हो गया। प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने सोमवार को इस मामले में भारत की संलिप्तता का आरोप लगाया।


अमेरिकन सिख कॉकस कमेटी के समन्वयक प्रीतपाल सिंह ने द इंटरसेप्ट को बताया कि निज्जर की हत्या के बाद उन्हें और कैलिफोर्निया में दो अन्य सिख अमेरिकियों को एफबीआई का कॉल आया था। उन्होंने एफबीआई अधिकारियों से मुलाकात की भी बात कही है।



इस मुलाकात के दौरान खुफिया अधिकारियों ने निज्जर की हत्या का हवाला देते हुए उनकी जान को खतरा बताया है। ब्रिटिश कोलंबिया गुरुद्वारा काउंसिल के प्रवक्ता मोनिंदर सिंह ने कहा, “उन्होंने हमें बताया कि हमारी हत्या का खतरा मंडरा रहा है। हालांकि, उन्होंने यह नहीं कहा है कि खतरा भारतीय खुफिया एजेंसियों है या किसी और से।” कैलिफोर्निया स्थित गैर सरकारी संगठन इन्साफ के सह-निदेशक सुखमन धामी ने भी इसकी पुष्टि की है।


वहीं, व्हाइट हाउस ने कहा है कि अमेरिका कनाडा के इन आरोपों पर कि कनाडा की धरती पर एक सिख अलगाववादी की हत्या में नयी दिल्ली संभावित तौर पर शामिल थी, भारत के साथ संपर्क में है। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कैरिन जीन-पियरे ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिका कनाडाई सरकार के साथ भी नियमित संपर्क में है। जीन-पियरे ने कहा, ”हमने भारत सरकार के साथ बातचीत की है। हालांकि, हम साफ तौर पर निजी राजनयिक बातचीत में शामिल नहीं होंगे। लेकिन, हां, भारत सरकार में अपने सहयोगियों के साथ हमारी बातचीत हुई है।” उन्होंने कहा, ”निश्चित तौर पर, हम अत्यंत चिंतित हैं। इसलिए, हम कनाडा की सरकार और कनाडा के साझेदारों के साथ नियमित संपर्क में हैं।”

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button