देश

जोशीमठ हादसे पर पहले भड़की उमा भारती…. बाद में मुख्यमंत्री धामी की करने लगी तारीफ

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : उत्तराखंड के जोशीमठ संकट अब नेशनल मुद्दा बन चुका है। वहां पहुंचकर कई बड़े नेता और अधिकारी क्षेत्र का दौरा कर रहे हैं। इसी बीच मंगलवार को मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती जोशीमठ पहुंची और हालात का जायजा लिया।

Advertisement

मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने भुवन चन्द्र खण्डूरी और कांग्रेस नेता हरीश रावत की तारीफ की। उमा भारती ने कहा कि कांग्रेस नेता हरीश रावत ने लोहारी नागपाला का प्रोजेक्ट रुकवा दिया था, जब जीडी अग्रवाल और आनंद स्वामी अनशन पर बैठे थे और 1500 करोड़ का घाटा उठा लिया था।

Advertisement

उमा भारती ने कहा कि ऐसे सभी प्रोजेक्ट को रिव्यू कर लेना चाहिए। उत्तराखंड को लो हैंगिंग फ्रूट मत मानो। यह देवभूमि है। यहां से पूरे देश को ऑक्सीजन मिल रही है। उमा भारती ने कहा कि मैंने एक्सपर्ट्स के ओपिनियन के साथ इस मुद्दे पर पहले भी कहा था, लेकिन बाद में एक और एक्सपर्ट का ओपिनियन आ गया और इसलिए यह प्रोजेक्ट जारी रखा गया
उमा भारती ने कहा कि पहले के समय में भी ऐसा हुआ है कि प्रोजेक्ट को रोक दिया गया है। उमा भारती ने पुराना उदाहरण दिया कि हरीश रावत जी के समय में भी एक प्रोजेक्ट को रोका गया था और सरकार ने 1500 करोड़ का नुकसान उठाया था। उमा भारती ने कहा कि अब भी समय है कि ऐसे प्रोजेक्ट को रोक दिया जाए। इस उत्तराखंड को देव भूमि ही समझा जाए।

उमा भारती ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की तारीफ की
उत्तराखंड की वर्तमान धामी सरकार की तारीफ करते हुए उमा भारती ने कहा कि यहां जो संकट आना था आ चुका है। अब धामी जी की सरकार में उत्तराखंड में कोई संकट नहीं आना है। उन्होंने धामी को देश का सबसे अच्छा मुख्यमंत्री बताया। जोशीमठ संकट को लेकर उमा भारती ने कहा कि अभी आपदा आई नहीं है, सिर्फ उसके संकेत हैं और सरकारों ने इस पर समय रहते उचित संज्ञान ले लिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button