देश

कल रवाना होगा..बाबा बर्फानी के अमरनाथ धाम का पहला जत्था…जानिए यात्रा के बारे में वह सब कुछ…जो जानना जरूरी है

(शशि कोन्हेर) : दो साल बाद जम्मू के भगवती नगर स्थित श्री अमरनाथ यात्रा का आधार शिविर यात्री निवास सोमवार शाम एक बार फिर हर-हर महादेव के जयघोष से गूंज उठा। वीरवार (30 जून) से शुरू हो रही यात्रा के लिए देशभर से श्रद्धालुओं को जम्मू पहुंचना शुरू हो गया है।

Advertisement

सोमवार रात तक 200 से ज्यादा श्रद्धालु कड़ी सुरक्षा के बीच यात्री निवास में प्रवेश कर चुके थे। श्रद्धा और उत्साह का आलम यह है कि कई दिव्यांग श्रद्धालु भी यह कठिन यात्रा करने पहुंचे हैं। श्री अमरनाथ यात्रा के लिए पहला जत्था जम्मू से बुधवार (29 जून) तड़के इसी यात्री निवास से कश्मीर के बालटाल व पहलगाम के लिए रवाना होगा। बता दें कि कोरोना के चलते दो साल यात्रा नहीं हो पाई थी। इसलिए इस बार श्रद्धालुओं में अधिक उत्साह है।

Advertisement

जम्मू में यात्री निवास प्रमुख आधार शिविर है, जहां प्रशासन की ओर से श्रद्धालुओं को ठहराने की व्यवस्था की गई है। इस यात्री निवास में करीब 1800 श्रद्धालु एकसाथ ठहर सकते हैं। दो मंजिला यात्री निवास में कुल चार बड़े हाल हैं, जहां पर 1400 श्रद्धालुओं को ठहराने की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा प्रांगण में एक प्री-फेब्रीकेटिड शेड बनाया गया है, जहां जरूरत पडऩे पर 200 श्रद्धालु रात बिता पाएंगे।

Advertisement

इस बार एक नए हाल का निर्माण भी किया गया है, जिसमें 200 श्रद्धालुओं के ठहरने की व्यवस्था है। यात्री निवास समेत प्रशासन ने इस बार जिले में 30 विश्राम स्थल बनाए हैं, जहां बाबा बर्फानी के भक्त ठहर सकते हैं। यात्री निवास में ही रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन की ओर से काउंटर स्थापित किया गया है, जहां से श्रद्धालु बालटाल या पहलगाम जाने के लिए छोटी-बड़ी गाडिय़ों की बुङ्क्षकग करवा पाएंगे।

सुरक्षा की दृष्टि से इस बार रात को श्रद्धालुओं को बाहर आने की अनुमति नहीं होगी, लिहाजा लंगर की व्यवस्था भी यात्री निवास के भीतर ही की गई है। वहीं बाबा बर्फानी के जो भक्त समय रहते यात्रा आनलाइन पंजीकरण नहीं करवा पाए हैं, उनके लिए तत्काल पंजीकरण की व्यवस्था भी की गई है। ऐसे में बिना पंजीकरण जम्मू पहुंचने वाले ये श्रद्धालु भी तत्काल पंजीकरण कराकर यात्रा पर रवाना हो सकेंगे।

आज से होगी तत्काल पंजीकरण की व्यवस्था : जम्मू में मंगलवार से तत्काल पंजीकरण की सुविधा भी शुरू हो रही है। इसके लिए श्रद्धालु को 220 रुपये शुल्क देना पड़ेगा। तत्काल पंजीकरण तीन चरणों में पूरा होगा। श्रद्धालुओं को अपना आधार कार्ड लेकर रेलवे स्टेशन स्थित सरस्वती धाम पहुंचना पड़ेगा, जहां से उन्हें टोकन दिया जाएगा। इसके बाद उन्हें अपनी मेडिकल जांच करानी होगी और उसके बाद उनका पंजीकरण होगा। तत्काल पंजीकरण की शुरुआत डिवीजनल कमिश्नर रमेश कुमार मंगलवार को जम्मू के राम मंदिर से करेंगे।

यहां करवा सकते हैं मेडिकल जांच : यूं तो हर पंजीकरण केंद्र पर डाक्टरों की टीम मेडिकल जांच के लिए उपलब्ध रहेगी, लेकिन श्रद्धालु सरकारी अस्पताल गांधी नगर, सरवाल अस्पताल तथा कुंजवानी स्थित राजीव गांधी अस्पताल में भी जांच करवाकर प्रमाण पत्र हासिल कर सकते हैं।

पंजीकरण करवाकर पहले श्रद्धालु अपनी गाडिय़ों में भी यात्रा के लिए सीधे कश्मीर रवाना हो जाते थे, लेकिन इस बार ऐसा नहीं होगा। श्रद्धालुओं को यात्री निवास से रवाना होने वाले जत्थे में ही शामिल होकर जाना पड़ेगा। यात्री निवास से ही सुरक्षा घेरे में श्रद्धालुओं को यात्रा पर रवाना किया जाएगा। अगर वे अपनी निजी गाड़ी में जाना चाहेंगे तो उन्हें एक दिन पूर्व यात्री निवास पहुंच कर अपनी गाड़ी पंजीकृत करवानी होगी, फिर ही उन्हें जत्थे में शामिल किया जाएगा। जो श्रद्धालु जत्थे के अलावा जाने का प्रयास करेंगे, उन्हें जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर नगरोटा में रोक लिया जाएगा। इसके बाद ऊधमपुर व आगे भी इसी तरह की जांच होगी और अमरनाथ यात्रा पर जाने वालों को रोककर जत्थे में शामिल करके आगे ही भेजा जाएगा।

Advertisement

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button