देश

पिता की जान लेने के लिए बेटी ने हत्यारे को सुपारी में दी हीरे की अंगूठी

(शशि कोन्हेर) : झारखंड के सरायकेला जिले के आदित्यपुर में 29 जून की रात हुई पूर्व विधायक अरविंद सिंह के साले की हत्या के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है. व्यवसायी कन्हैया सिंह की हत्या के मामले में सरायकेला पुलिस ने बताया है कि प्रेम प्रसंग और बदले की वजह से हत्या को अंजाम दिया गया, जिसमें मृतक की बेटी का भी हाथ था.

Advertisement

एसपी आनंद प्रकाश और एसआईटी टीम के अध्यक्ष हरविंदर सिंह ने बताया कि कन्हैया सिंह की हत्या प्रेम में अड़चन और राजवीर सिंह के परिवार को प्रताड़ित कर आदित्यपुर भगाने के परिणाम स्वरूप हुई है.

Advertisement

इस दोनों घटनाओं से राजवीर गुस्से में था. इसके लिए राजवीर सिंह ने अपनी प्रेमिका औऱ कन्हैया सिंह की पुत्री अपर्णा और दोस्त निखिल गुप्ता का सहारा लेकर हत्या की घटना को अंजाम दिया.

Advertisement

एसपी ने बताया कि कन्हैया सिंह की हत्या की सूत्रधार उनकी बेटी ही बनी जो पल-पल की जानकारी और लोकेशन हत्यारों को दे रही थी. सरायकेला पुलिस ने बताया कि कन्हैया सिंह की हत्या 20 जून को पटना में ही हो जाती, मगर वहां मौका नहीं मिला.

20 जून की रात राजवीर सिंह दोस्त और शूटर निखिल गुप्ता को साथ लेकर कांग्रेस जिलाध्यक्ष छोटे राय किस्कू के बेटे सौरभ किस्कू को लेकर पटना गए थे. उस दिन कन्हैया सिंह पटना में मौजूद था. इसका लोकेशन भी अपर्णा सिंह दे रही थी.

पटना में निखिल को देशी कट्टा सौरभ किस्कू ने ही उपलब्ध कराया था. सौरभ ने साढ़े 8 हजार रुपए में देशी कट्टा और एक गोली उपलब्ध कराया था. इस हत्याकांड में अब तक 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिनमें राजवीर सिंह, अपर्णा सिंह, शूटर निखिल गुप्ता और सौरभ किस्कू शामिल हैं, जबकि दो आरोपी छोटू दिग्गी और रवि सरदार अभी फरार हैं.

पुलिस ने आरोपी निखिल का हत्या के समय पहने कपड़े, जूते, देशी कट्टा, एक खोखा और 4 मोबाइल जब्त किए हैं.

5 साल पुराना है प्रेम प्रसंग

Advertisement

बता दें कि राजवीर सिंह औऱ अपर्णा सिंह का प्रेम प्रसंग 5 साल पुराना है. जब डीएवी एनआईटी में राजवीर 10वीं और अपर्णा 8वीं में पढ़ती थी. तब राजवीर का पूरा परिवार मांझी टोला में रहता था. कन्हैया सिंह को इस बात का पता चला तो उसने राजवीर ही नहीं उसके पूरे परिवार के साथ मारपीट की. इसके बाद राजवीर सिंह के परिवार को पैतृक घर बेचकर मानगो में किराए के मकान में रहने की नौबत आ गई थी।

Advertisement

सुपारी में मिली थी हीरे की अंगूठी और 4 हजार रुपये

हत्याकांड के मुख्य शूटर निखिल गुप्ता को कन्हैया सिंह की हत्या करने के लिए सुपारी के रूप में राजवीर ने मात्र 4 हजार रुपए नकद और अपनी प्रेमिका की हीरे की अंगूठी दी थी. जबकि कुछ और पैसे हत्या के बाद देनी थी.

हत्या करने के बाद निखिल साढ़े 11 बजे रात को मानगो डिमना जाकर पैसे की मांग भी की थी लेकिन उस समय राजवीर सिंह ने पैसे नहीं दिए थे. एसपी ने इस घटना के उद्भेदन करने वाले सभी पुलिस अधिकारियों को पुरस्कृत करने और स्पीडी ट्रायल चलाकर सजा दिलाने का दावा किया है.

एसपी ने कहा, अंधेरे में तीर चलाकर हमने इस हत्याकांड का खुलासा किया जो चुनौती भरा कदम था क्योंकि ऊपर से राजनीतिक दवाब भी था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button