छत्तीसगढ़

सीएम भूपेश बघेल और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम सहित प्रदेश की समूची कांग्रेस अंबेडकर चौक में धरने पर….

Advertisement

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : रायपुर – छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज रायपुर के अंबेडकर चौक में धरने पर बैठे। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम समेत तमाम नेता भी इस धरने में मौजूद थे । कई विधायक और मंत्री भी इस धरना प्रदर्शन में शामिल हुए।

Advertisement

कांग्रेस का यह धरना पूरे देश में आयोजित किया गया । रायपुर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अगुवाई में कांग्रेसियों ने महंगाई खाद्य पदार्थों में लगे जीएसटी अग्नीपथ योजना जैसे केंद्र सरकार की स्कीमों का पुरजोर विरोध किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस धरना प्रदर्शन के दौरान क्या कुछ कहा पढ़िए उन्हीं के शब्दों में…मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ गए तो ट्रांसपोर्टेशन का भी दाम बढ़ जाता है, ट्रैक्टर भी डीजल से चलता है । खेती किसानी के काम भी महंगे हो गए। कभी 30 पैसा कभी 85 पैसा इस तरह से रोज पेट्रोल के भाव बढ़ रहे हैं। आम आदमी का घर चलाना मुश्किल हो रहा है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आगे कहा कि यह जो महंगाई बढ़ रही है इसका पैसा किसकी जेब से जा रहा है, व्यापारी, गृहणी, किसान मजदूर यह सब लोग मेहनत कर रहे हैं और मोदी सरकार ने ऐसा सिस्टम बनाया है कि उनकी जेब से पैसा मोदी सरकार के पास चला जा रहा है।


भूपेश बघेल ने कहा नौजवानों को नौकरी रोजगार नहीं मिल रहा। अब तो अग्निपथ स्कीम आ गई। 4 साल में आप सेना से रिटायर हो जाओगे, 17 साल में भर्ती हुई 21 साल में रिटायर और 22 साल में भूतपूर्व सैनिक का टैग लग जाएगा। भूतपूर्व लोग नाती पोते की शादी करवाते हैं। मोदी ने व्यवस्था ऐसी कर दी है कि भूतपूर्व होने के बाद आपकी शादी होगी।
भूपेश बघेल ने नरेंद्र मोदी और अमित शाह के अलावा देश के कारोबारी घरानों पर भी इशारों इशारों में सियासी प्रहार किया। उन्होंने कहा – केंद्र सरकार ने पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ाकर 28 लाख करोड रुपए वसूल कर लिए। उद्योगपतियों का लाखों करोड़ रुपए माफ किया जा रहा है। जितने एयरपोर्ट हैं सब बिक गए हैं । कौन खरीद रहा बताने की जरूरत नहीं है,हम दो हमारे दो।


छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के कामों को खिंचवाते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बोले यह सरकार राहुल जी के निर्देश पर कांग्रेस के निर्देश पर योजना बना रही है, हमारी सरकार के खजाने का पैसा किसान के खाते में जाना चाहिए यह हमने पहल की, 2500 रूपया क्विंटल धान खरीदी की जाएगी, किसान के खाते में लघु वनोपज की खरीदारी का 4000 प्रति मानक बोरा के हिसाब से पैसा जाएगा। हमारी सरकार में खजाने का पैसा आदिवासी लोगों के खाते में जाएगा।


कांग्रेसी नेताओं ने एक ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम तैयार किया है। राष्ट्रपति द्रोपति मुर्मू से कांग्रेस अपने इस विरोध प्रदर्शन के जरिए मांग कर रही है कि महंगाई कम करने, खाद्य पदार्थों पर लगे जीएसटी को समाप्त करने और अग्निपथ योजना जैसे स्कीम्स को वापस लेने की मांग की गई है । राज भवन पहुंचा कांग्रेस नेताओं का प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर लौट गया और करीब 3 घंटे तक चला धरना प्रदर्शन भी समाप्त हुआ।

Advertisement

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button