देश

हड़ताल से न्याय पाने वाले प्रभावित होते हैं न कि वकील और जज’: चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़

(शशि कोन्हेर) : दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने शनिवार को कहा कि जब अधिवक्ता हड़ताल पर होते हैं तो न्याय पाने वाला प्रभावित होता है न कि जज और अधिवक्ता। हाल ही में गुजरात, मद्रास और तेलंगाना हाई कोर्ट के वकीलों ने न्यायाधीशों के स्थानांतरण के लिए सुप्रीम कोर्ट कालेजियम द्वारा किए गए प्रस्ताव का विरोध करते हुए हड़ताल की थी।

Advertisement

बार काउंसिल आफ इंडिया के कार्यक्रम में रखी अपनी बात
बार काउंसिल आफ इंडिया द्वारा उन्हें सम्मानित करने के लिए आयोजित एक समारोह में अपने संबोधन में सीजेआइ ने कहा कि सद्भाव और संतुलन हमारे समाज और अदालतों की शांति बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है।

Advertisement

उन्होंने कहा कि डा. बीआर आंबेडकर ने जब संविधान को अपनाने की पूर्व संध्या पर संविधान सभा से बात की तब कहा था कि हम अब तक औपनिवेशिक शासन के अधीन थे और तब सत्याग्रह और हड़ताल एक साधन था लेकिन अब हम स्वराज हासिल कर चुके हैं। इसलिए सत्याग्रह और हड़ताल को सहयोग, स्थिरता, शांति और संतुलन के लिए रास्ता देना चाहिए।

Advertisement

क्या बोले कानून मंत्री किरेन रिजिजू
उन्होंने कहा कि यही वह शांति और सामाजिक स्थिरता है, जिसके बारे में मैं बात करता हूं। उन्होंने कहा कि बहुत सारी चीजें बातचीत से हल की जा सकती हैं और बार के सदस्यों के लिए यह महसूस करना महत्वपूर्ण है।

उधर, कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने भी उच्च न्यायालय के कुछ न्यायाधीशों के तबादले की सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम की सिफारिशों के खिलाफ कुछ बार एसोसिएशन द्वारा विरोध प्रदर्शन पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि अगर कोलेजियम द्वारा लिए गए हर निर्णय के लिए बार-बार हड़तालें होंगी तो यह हमें कहां तक ले जाएगी। उन्होंने कहा कि वकीलों को ऐसा नहीं करना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button