बिलासपुर

संजू त्रिपाठी हत्याकांड:- पिस्टल उपलब्ध कराने वाले दो आरोपी गिरफ्तार……

Advertisement

(आशीष मौर्य) : बिलासपुर -संजू त्रिपाठी की हत्या मामले में मुख्य आरोपी कपिल त्रिपाठी को पिस्टल उपलब्ध कराने वाले दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पकड़े गए आरोपी सावन पाठक और मोनू उर्फ़ अभिषेक मिश्रा ने शूटर्स को पिस्टल उपलब्ध कराये थे. और घटना को अंजाम देने के लिए शूटर्स के साथ संजय त्रिपाठी की रेकी की थी.हत्याकांड में पुलिस ने अब तक 16 आरोपियों की गिरफ्तारी की है.

Advertisement

घटना दिनांक 14.12.2022 को शाम 04.15 बजे मृतक संजू त्रिपाठी के भाई कपिल त्रिपाठी के द्वारा अपने साथियो साथ मिलकर अपराधिक षड़यंत्र कर योजनाबध्द तरीके अन्य राज्य से शूटर बुलाकर गोली मारकर हत्या कर दी गई। थाना सकरी में अपराध पंजीबध्द कर प्रकरण की विवेचना की जा रही है। प्रकरण आरोपी प्रेम श्रीवास से पूछताछ पर प्राप्त तथ्यों के आधार पर हथियार आपूर्तिकर्ता सावन पाठक पिता द्वारिका पाठक उम्र 22 साल नि० ग्राम कमौली थाना चौबेपुर जिला वाराणसी उत्तर प्रदेश तथा मोनू उर्फ अभिषेक मिश्रा पिता प्रकाश चंद्र मिश्रा उम्र 38 साल नि0 बी – 37, ई-3, बिरदोपुर कमाच्छा थाना भेलूपूर जिला वाराणसी उत्तर प्रदेश को पकड़कर उनसे पूछताछ किये जाने पर ज्ञात हुआ कि आरोपी सावन पाठक दिनांक 13.12.202 को एक नग पिस्टल लेकर वाराणसी से बस में बैठकर बिलासपुर आया था। बिलासपुर पहुंचकर आरोपी प्रेम श्रीवास से मोबाईल पर बात किया । तब प्रेम श्रीवास इससे सीपत चौक में संपर्क किया। इसके बाद प्रेम श्रीवास इसे अपनी कार में बैठाकर कपिल त्रिपाठी के फार्म हाउस में ले आया। जहां पर पिस्टल को देकर आरोपी वापस वाराणसी चला गया।

Advertisement

आरोपी मोनू उर्फ अभिषेक मिश्रा से पूछताछ करने पर ज्ञात हुआ कि दिनांक 10 नंबवर 2022 को वाराणसी न्यायालय में दानिश अंसारी और ताबीज अंसारी मुलाकात हुई, जो इससे बोले कि बिलासपुर छत्तीसगढ़ में एक कांड करना है। तुमको एक लाख रूपये मिलेगा तो यह इस काम के लिये तैयार हो गया। 14 नवंबर 2022 को यह ताबीज और दानिश के साथ बस में बैठकर वाराणसी से बिलासपुर आया। आरोपी प्रेम श्रीवास सभी के रूकने की व्यवस्था किया था। 16 नवंबर 2022 को कपिल त्रिपाठी आकर इनसे मुलाकात कर बोला कि एक व्यक्ति की हत्या कराना चाहता हूं। कपिल त्रिपाठी द्वारा हत्या करने का प्लान भी समझाते हुये एक कट्टा और दो पिस्टल को दिखाकर इनसे बोला गया कि जिस व्यक्ति की हत्या करना है, वह स्कूल तथा चौराहे में आता जाता है। तब इन लोगो के द्वारा कपिल त्रिपाठी के बताये अनुसार स्कूल और चौराहे पर जाकर रैकी किया गया। रैकी करने के बाद ताबीज द्वारा बोला गया कि घटना करने में और भी हथियार की आवश्यकता पड़ेगी। यह कहकर 17 नवंबर 2022 को तीनों वापस चले गये थे। कुछ दिनों बाद ताबीज इसके मोबाईल नंबर पर फोन करके इसे व दानिश को फिर से वाराणसी न्यायालय के पास बुलाया और बोला कि अब कपिल त्रिपाठी एक व्यक्ति को हत्या करने के एवज में एक लाख देने के लिये तैयार हो गया है। तब यह दानिश और ताबीज के साथ बस में बैठकर फिर से बिलासपुर आ गया। बिलासपुर में कपिल त्रिपाठी के फार्म हाउस में रूके थे। तब कपिल त्रिपाठी बताया था कि जमीन विवाद के कारण वह अपने बड़े भाई की हत्या कराना चाहता है। 25-26 नवंबर 2022 को सभी लोग उस सावाताल फार्म हाउस में जाकर रैकी भी किये थे। 27 नवंबर 2022 को इसके घर में काम आ जाने से यह वापस चला गया तथा दानिश और ताबीज बिलासपुर में ही रूके थे। प्रकरण के अन्य आरोपी शूटर फरार है। जिनकी पतासाजी की जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button