विदेश

विजय माल्या के साथ वायरल तस्वीर पर लोगों ने ‘यूनिवर्स बॉस’ क्रिस गेल को किया ट्रोल….

वेस्टइंडीज के दिग्गज क्रिकेटर और ‘यूनिवर्स बॉस’ के नाम से मशहूर क्रिस गेल सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहे हैं। दरअसल, आईपीएल की फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) के पूर्व मालिक और भगोड़े व्यवसायी विजय माल्या ने गेल के साथ सोशल मीडिया हैंडल ट्विटर पर एक तस्वीर शेयर की है। इसके बाद माल्या और गेल दोनों ट्रोल हो गए। गेल ने इस पोस्ट में गेल को अपना एक अच्छा दोस्त भी बताया है।

Advertisement

गेल कई सालों तक आरसीबी का हिस्सा रहे थे। माल्या ने अपने ट्वीट में लिखा- मेरे अच्छे दोस्त क्रिस्टोफर हेनरी गेल, यूनिवर्स बॉस के साथ मुलाकात शानदार रही। जब मैंने उन्हें आरसीबी टीम के लिए खरीदा था तब से हमारी अच्छी बहुत अच्छी है, ‘सुपर फ्रेंडशिप’। किसी खिलाड़ी की अब तक की सबसे अच्छी खरीद।

Advertisement

इस ट्वीट पर 32 हजार से ज्यादा लाइक्स और कई कमेंट्स आ चुके हैं। लोग माल्या के साथ-साथ गेल को भी ट्रोल कर रहे हैं। इसके अलावा ये ट्वीट 1300 से ज्यादा री-ट्वीट भी हो चुका है। सैम नाम के एक यूजर ने लिखा- क्यों भाई गेल तुझे भी लूटके भागना है? वहीं, कमलेंदु भुषण नाम के यूजर ने लिखा- आज तो बैंक हॉलीडे भी नहीं है।

Advertisement

एक और यूजर ने लिखा- सर कभी अपने दूसरे दोस्त एसबीआई (SBI) को भी याद कर लो। आपकी याद में परेशान है। वहीं, दूसरे यूजर ने लिखा- भागना ही है तो ओलंपिक में भागो। इससे भारत का नाम होगा। इस तरह भागने का क्या मतलब है। कृष्ण गोपाल नाम के यूजर ने लिखा- घर आ जाओ और पैसे वापस कर दो। तुम्हें शर्म भी नहीं आती पैसा लेकर बैठे हो।

वहीं, विजय नाम के यूजर ने लिखा- सर, आप कहां गए? वापस भारत आइए। आपसे कोई कुछ नहीं कहेगा। गुस्सा थूक दीजिए। आपकी ईडी को बहुत याद आ रही है। दरअसल, साल 2019 में ब्रिटिश न्यायपालिका ने भगोड़े विजय माल्या को प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया था। हालांकि, अब तक ऐसा नहीं हो सका है।

गेल की बात करें तो उन्हें 2011 में आरसीबी ने खरीदा था। उस साल गेल की तूफानी बल्लेबाजी की वजह से आरसीबी फाइनल में पहुंची थी। गेल 2017 तक आरसीबी की टीम में रहे। उन्होंने इस फ्रेंचाइजी के लिए 91 मैचों में 43.29 की औसत और 154.40 के स्ट्राइक रेट से 3420 रन बनाए। इसमें 21 अर्द्धशतक और पांच शतक शामिल है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button