देश

हमारे समय के…” जब राम जेठमलानी को याद कर भावुक हो गए CJI डीवाई चंद्रचूड़

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : शुक्रवार को CJI डीवाई चंद्रचूड़ ने बेहद भावुक और अनूठे अंदाज में देश के बेहतरीन वकील राम जेठमलानी के देश की न्यायपालिका के सुधार में योगदान को लेकर याद किया. साथ ही उन्होंने कोविड के बाद से लगातार न्यायपालिका को आम लोगों तक पहुंचाने और न्याय तक पहुंच को सुगम बनाने के लिए उठाए गए कदमों पर चर्चा की.

Advertisement

CJI चंद्रचूड़ ने कहा कि मुझे पता नहीं है कि राम जेठमलानी इन सुधारों पर क्या प्रतिक्रिया देते. अपने मनमौजी स्वभाव के अनुरूप वो अदालतों की दक्षता में सुधार के लिए और भी सुझाव देते. लेकिन ये पक्का है कि वो सितारों पर बैठे राम और रत्ना ( राम की पत्नी) और मेरे पिता- माता यशवंत और प्रभा सब देख रहे होंगे.

Advertisement

राम जेठमलानी पुण्यतिथि पर CJI ने कहा, “हमारे समय के महानतम लोगों में से एक, राम जेठमलानी की विरासत को याद करना एक बड़ा सम्मान रहा है.  ये सब कहते हुए CJI चंद्रचूड़ भावुक हो गए. उन्होंने राम जेठमलानी के साथ वकील के तौर पर बॉम्बे हाईकोर्ट में पेश होने तक की बात को याद किया. CJI राम जेठमलानी जन्म शताब्दी मेमोरियल के मौके पर बोल रहे थे.

CJI डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि राम जेठमलानी जैसे व्यक्ति को सच्ची श्रद्धांजलि यह है कि हम भी सचेत रहें और उन प्रणालियों में बदलाव का हिस्सा बनें. जिस तरह से मैं इसे देखता हूं, उन्हें सिर्फ इस बात की चिंता नहीं थी कि उन्होंने क्या पाया. उनकी इस बात में अधिक दिलचस्पी थी कि क्या  जो पाया है उससे बेहतर छोड़ दिया है?

CJI ने कहा कि आज का विषय बुनियादी संरचना सिद्धांत है. मैं भले ही जेठमलानी की बहुत प्रशंसा करता हूं, लेकिन एक बात जो मैं उनके साथ साझा नहीं करना चाहूंगा. वह है विवादों को जन्म देने की उनकी क्षमता. मेरा लक्ष्य अदालतों को संस्थागत बनाना.

सेंटर फॉर रिसर्च एंड प्लानिंग लंबित मामलों के प्रबंधन और कमी के लिए एक प्रणाली बनाने की प्रक्रिया में है. कॉलेजियम की आलोचनाओं में से एक यह है कि जिन लोगों की नियुक्ति पर हम विचार कर रहे हैं. उनका मूल्यांकन करने के लिए हमारे पास कोई तथ्यात्मक डेटा नहीं है.

CJI ने कहा कि सेंटर ऑफ रिसर्च एंड प्लानिंग की मदद से, हमने एक व्यापक मंच तैयार किया है, जहां हमने देश के शीर्ष 50 न्यायाधीशों का आकलन किया है, जिनकी SC में नियुक्ति के लिए विचार किया जाएगा. विचार यह है कि सुप्रीम कोर्ट में नियुक्तियों की सिफारिश करने की प्रक्रिया को और अधिक पारदर्शी बनाया जाए.

Advertisement

अपनी चर्चाओं को सार्वजनिक क्षेत्र में साझा करके नहीं, जो हम स्पष्ट रूप से नहीं कर सकते. लेकिन एससी और एचसी में चयन के लिए वस्तुनिष्ठ मानदंड निर्धारित करके मेरा ध्यान अदालतों तक पहुंच में बाधाओं को कम करने, वकीलों के लिंग अनुपात में सुधार करने, यह सुनिश्चित करने पर भी है कि वकीलों और वादियों को अदालत में आराम करने की सुविधा मिले.

Advertisement

CJI डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि अगर मुझे इस सिद्धांत के बारे में कुछ करना है, तो मुझे इसे अपने फैसले के जरिए करना होगा, न कि अदालत से बाहर की घोषणा के जरिए. कल हमने राष्ट्रीय न्यायिक डेटा ग्रिड लॉन्च किया, जो एक क्लिक के साथ निपटान और लंबित मामलों की वास्तविक समय ट्रैकिंग प्रदान करेगा. इस दौरान पूर्व CJI दीपक मिश्रा, कानून मंत्री अर्जुन राम मेघवाल समेत अन्य लोगों ने भी अपने विचार व्यक्त किए.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button