देश

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे से भेंट… सामान्य मुलाकात या पक रही है कोई खिचड़ी..

(शशि कोन्हेर) : महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकरे से उनके घर जाकर मुलाकात की। माना जा रहा है कि इस मुलाकात के दौरान मनसे के एकमात्र विधायक को एकनाथ शिंदे मंत्रिमंडल में शामिल करने पर बात हुई है। राज ठाकरे और देवेंद्र फडणवीस की मुलाकात राज्य में नए समीकरणों को जन्म दे सकती है।

Advertisement

महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन के बाद शुक्रवार को उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राज ठाकरे के दादर स्थित आवास शिवतीर्थ पर जाकर उनसे मुलाकात की। राज ठाकरे के घर पहुंचने पर उनकी पत्नी शर्मीला ठाकरे ने देवेंद्र फडणवीस का आरती उतारकर व टीका लगाकर तथा खुद राज ठाकरे ने उन्हें भगवा शाल उढ़ाकर उनका स्वागत किया। कुछ ही दिनों पहले राज ठाकरे का एक आपरेशन हुआ था। भाजपा सूत्रों का कहना है कि फडणवीस राज के घर उनके स्वास्थ्य का हालचाल जानने पहुंचे थे, लेकिन करीब डेढ़ घंटे चली इस मुलाकात में राजनीतिक चर्चाओं से भी इन्कार नहीं किया जा रहा है।

Advertisement

माना जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच मनसे के एकमात्र विधायक को एकनाथ शिंदे मंत्रिमंडल में स्थान देने पर चर्चा हुई है। क्योंकि हाल के सत्ता परिवर्तन के दौरान राज ठाकरे की पार्टी भाजपा को समर्थन करती रही है। विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव से लेकर सरकार के विश्वासमत तक में मनसे विधायक राजू पाटिल ने शिंदे सरकार के पक्ष में ही मतदान किया था। अब राष्ट्रपति चुनाव में भी मनसे विधायक राजग उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में मतदान करेंगे। उससे पहले 10 जून को हुए राज्यसभा चुनाव व 20 जून को हुए विधानपरिषद चुनाव में भी राज ठाकरे का समर्थन भाजपा के ही साथ था।

Advertisement

पिछले एक माह में महाराष्ट्र में घटी राजनीतिक घटनाओं में चाणक्य बनकर उभरे देवेंद्र फडणवीस के संबंध राज ठाकरे से अच्छे माने जाते हैं। शिवसेना के दोफाड़ होने के बाद यदि मुंबई और शेष महाराष्ट्र में राज ठाकरे का साथ शिवसेना शिंदे गुट व भाजपा को मिल जाता है, तो जमीनी स्तर पर शिवसेना उद्धव गुट की जड़ें हिलाने में यह गठबंधन सफल हो सकता है। खासतौर से मुंबई मेट्रोपालिटन रीजन की सभी महानगरपालिकाओं के चुनाव में शिवसेना का एक बड़ा वोटबैंक इस ओर आकर्षित हो सकता है। अगले लोकसभा व विधानसभा चुनाव में भी यह गठबंधन शिवसेना पर भारी पड़ सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button