देश

अपने पिता यशवंत सिन्हा को नहीं वरन…भाजपा की प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू को वोट देंगे जयंत सिन्हा

(शशि कोन्हेर) : नरेंद्र मोदी के कट्टर विरोधी यशवंत सिन्हा को विपक्षी दलों ने इस बार राष्ट्रपति चुनाव में अपना प्रत्याशी बनाया है। उनका मुकाबला भाजपा प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू के साथ होगा। दोनों का झारखंड की राजनीति से गहरा संबंध जगजाहिर है। दोनों की उम्मीदवारी ने झारखंड को सुर्खियों में ला दिया है। दोनों के बीच लड़ाई बेहद दिलचस्प होने वाली है। भाजपा ने आदिवासी महिला को प्रत्याशी बनाकर राजनीति में शानदार बल्लेबाजी की है। कई विपक्षी दल अभी तक समझ नहीं पा रहे कि उन्हें करना क्या है।

Advertisement

लेकिन इन सबसे इतर झारखंड में एक और चर्चा परवान चढ़ रही है। जिस यशवंत सिन्हा को विपक्षी दलों ने मैदान में उतारा है, उनके ही पुत्र जयंत सिन्हा उन्हें वोट नहीं देंगे। वह अपने पिता के बदले भाजपा प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में मतदान करेंगे। जयंत सिन्हा हजारीबाग से भाजपा के सांसद हैं। एक समय इसी क्षेत्र से उनके पिता यशवंत सिन्हा भी भाजपा के सांसद हुआ करते थे। यहीं से चुनकर जब लोकसभा गए तो केंद्र सरकार में विदेश व वित्त मंत्री भी बने थे। लेकिन बाद के दिनों में नरेंद्र मोदी और भाजपा से उनका मोह इस कदर भंग हुआ कि तृणमूल कांग्रेस में चले गए।

Advertisement

चुनाव में जब घर को कोई बंदा प्रत्याशी हो तो घरवालों का वोट उसी को जाता है, लेकिन राष्ट्रपति चुनाव में कहानी इसके ठीक उलट है। पिता राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हैं और पुत्र ही उन्हें वोट नहीं देने की बात कह रहा है। हजारीबाग के लोगों और मीडिया ने पुत्र से जब पूछना शुरू कर दिया कि उनका वोट किसके पक्ष में जाएगा? पुत्र को अंतत: सामने आना पड़ा। खुलकर जवाब देना पड़ा। पुत्र ने वीडियो संदेश जारी किया। दो टूक कह दिया कि मेरा वोट भाजपा प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में जाएगा।

Advertisement

पुत्र जयंत सिन्हा अपने वीडियो संदेश में दो टूक कहा- इसे पारिवारिक मुद्दा नहीं बनाएं। यह परिवार का मुद्दा नहीं है। विपक्ष ने मेरे आदरणीय पिता यशवंत सिन्हा को राष्ट्रपति पद के लिए प्रत्याशी बनाया है। मैं आप सभी से यही निवेदन करूंगा कि इस समय आप मुझे पुत्र के रूप में नहीं देखें। इसे एक पारिवारिक मामला नहीं बनाएं। मैं भाजपा का कार्यकर्ता हूं। हजारीबाग संसदीय क्षेत्र से भाजपा का सांसद हूं। मैं अपने संवैधानिक दायित्वों को समझता हूं और इसे पूरी तरह से निभाऊंगा। दरअसल, इस संदेश के जरिए जयंत सिन्हा ने साफ कर दिया कि वह अपने पिता को वोट नहीं देंगे। उनके लिए पार्टी प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू ही प्राथमिकता हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button