छत्तीसगढ़

आईटी, रेड के बहाने बना रही थी सत्ता परिवर्तन का दबाव : कांग्रेस नेता सूर्यकांत तिवारी

रायपुर: कारोबारी सूर्यकांत तिवारी के ठिकानों पर IT रेड मामले में आज बड़ा खुलासा किया है। कारोबारी व कांग्रेस नेता ने बयान जारी कर खुलासा किया है कि IT रेड की आड़ में IT की टीम छत्तीसगढ़ में सत्ता परिवर्तन का दवाब बना रही थी। सूर्यकांत तिवारी ने बताया कि इनकम टैक्स के छापे के दौरान कहीं भी ऐसा नहीं होता है कि अधिकारी दवाब बनाये, मारपीट करें।

Advertisement

लेकिन छापेमारी के दौरान इनकम टैक्स के अधिकारी ने ना सिर्फ उनके परिवार को भयाक्रांत किया, बल्कि उनके साथ मारपीट भी की। छापे दौरान आईटी के अफसर बार-बार उन पर ये दवाब बना रहे थे कि वो सीएम हाउस से जुड़े अधिकारी का नाम लें, आईटी के अफसर छत्तीसगढ़ में तख्तापलट करने की बात भी कह रहे थे। मुख्यमंत्री बनाने का प्रलोभन देते हुए उन्हें कहा गया कि उनके 40-45 विधायकों के साथ संबंध है, वो उन्हें लेकर छत्तीसगढ़ में तख्ता पलट कर दें

Advertisement

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह की तरफ से सूर्यकांत तिवारी की गिरफ्तारी की मांग पर तीखा पलटवार करते हुए उन्होंने कहा कि, उनका 20 साल से कोल व्यवसाय रहा है। इस दौरान 15 साल के रमन सिंह के शासनकाल और मौजूदा वक्त में उन्हें राजनीतिक और समाजिक संबंध सभी से रहे हैं।

Advertisement

सूर्यकांत तिवारी ने रमन सिंह के बारे में बड़ा खुलासा करते हुए उन पर बेहद गंभीर आरोप लगाये। सूर्यकांत तिवारी ने कहा कि रमन सिंह 15 साल मुख्यमंत्री रहे हैं, उन्हें ये मालूम होना चाहिये कि किसी के घर पर आईटी की रेड पड़ने पर वो अपराधी नहीं हो जाता।

बिना कोई सक्षम अधिकारी के अपराधी करार दिये ही रमन सिंह ने मुझे गिरफ्तार करने का फैसला सुना दिया। अगर मैं जेल जाऊंगा तो उसके बगल वाली सेल में उन्हें भी रहना होगा। क्योंकि उनके शासनकाल में जमीन घोटाला, ट्रांसफर घोटाला, विदेशों में उनके बेटे के नाम पर खाता, चिटफंड जैसे कई मामले थे। पैसा इतना था कि नोट गिनने की मशीन लगानी पड़ी थी।

सूर्यकांत तिवारी ने आरोप लगाया है कि आईटी अफसर बार-बार उन पर दवाब बना रहे थे कि किसी तरह से अधिकारियों का नाम लें, उनके कारोबार में उनका नाम भी जोड़ा जाये, ऐसा नहीं करने पर उन्हें प्रताड़ित किया गया ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button