देश

यह नेक पेशा है, कोई अपराधी वकालत कैसे कर सकता है?-  सुप्रीम कोर्ट

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : सुप्रीम कोर्ट ने बृहस्पतिवार को इस बात पर आश्चर्य जताया कि 2002 के गुजरात दंगों के दौरान बिलकिस बानो सामूहिक बलात्कार मामले और उसके परिवार के सदस्यों की हत्या के दोषियों में से एक कैसे वकालत कर सकता है। शीर्ष अदालत ने कहा कि “वकालत को एक नेक पेशा” माने जाता है ऐसे में कोई अपराधी वकालत कैसे कर सकता है।

Advertisement

मामला अदालत के संज्ञान में तब आया जब अधिवक्ता ऋषि मल्होत्रा ने समय से पहले रिहा किए गए 11 दोषियों में से एक राधेश्याम शाह को दी गई छूट का बचाव करते हुए न्यायमूर्ति बी.वी. नागरत्ना और न्यायमूर्ति उज्ज्वल भुइयां की पीठ को बताया कि उनके मुवक्किल ने 15 साल से अधिक की वास्तविक सजा काट ली है और राज्य सरकार ने उसके आचरण पर ध्यान देने के बाद उसे राहत दी।

Advertisement

मल्होत्रा ने कहा, “आज, लगभग एक साल बीत गया है और मेरे खिलाफ एक भी मामला नहीं आया है। मैं एक मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण में वकील हूं। मैं एक वकील था और मैंने फिर से वकालत करना शुरू कर दिया है।” अदालत ने कहा, “सजा के बाद क्या वकालत करने का लाइसेंस दिया जा सकता है? वकालत को एक नेक पेशा माना जाता है।

बार काउंसिल (ऑफ इंडिया) को यह बताना होगा कि क्या कोई दोषी वकालत कर सकता है। आप मुजरिम हैं, इसमें कोई शक नहीं। आपको दी गई छूट के कारण आप जेल से बाहर हैं। दोषसिद्धि बनी रहती है केवल सजा कम कर दी जाती है।”

शाह के वकील ने इस पर कहा, “मैं इस बारे में पक्के तौर पर नहीं कह सकता।” अधिवक्ता अधिनियम की धारा 24ए में कहा गया है कि नैतिक अधमता से जुड़े अपराध के लिए दोषी ठहराए गए व्यक्ति को वकील के रूप में नामांकित नहीं किया जा सकता है। इसमें यह भी कहा गया है कि नामांकन के लिए अयोग्यता उसकी रिहाई या (मामला) खत्म होने या हटाए जाने के दो साल की अवधि बीत जाने के बाद प्रभावी नहीं होगी।

गुजरात सरकार ने 11 दोषियों को 1992 की छूट नीति के आधार पर रिहा किया था, न कि 2014 में अपनाई गई नीति के आधार पर जो आज प्रभावी है। राज्य 2014 की नीति के तहत सीबीआई द्वारा जांच किए गए अपराध के लिए छूट नहीं दे सकता है या जहां लोगों को बलात्कार या सामूहिक बलात्कार के साथ हत्या का दोषी ठहराया गया है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button