देश

चंद्रयान 3 को विदा करने वाली मशहूर आवाज, ISRO वैज्ञानिक एन वलारमथी का निधन

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : लाखों किमी की यात्रा कर चांद पर पहुंचे चंद्रयान 3 मिशन की अहम सदस्य रहीं एन वलारमथी का निधन हो गया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी ISRO में वैज्ञानिक वलारमथी ने ही चंद्रयान 3 की लॉन्चिंग के समय उलटी गिनती की थी। खबर है कि हार्ट अटैक के चलते उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।

Advertisement

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, तमिलनाडु के अरियालुर की रहने वालीं वलारमथी का निधन शनिवार शाम को हो गया था। उन्होंने राजधानी चेन्नई में अंतिम सांस ली। 23 अगस्त को चांद के उत्तरी ध्रुव पर लैंड करने वाले चंद्रयान 3 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से 14 जुलाई को लॉन्च किया गया था। सफल चंद्रयान 3 मिशन उनका अंतिम काउंटडाउन साबित हुआ।

Advertisement

उनके निधन पर ISRO के पूर्व वैज्ञानिक डॉक्टर पीवी वेंकटकृष्ण ने दुख जताया है। उन्होंने लिखा, ‘श्रीहरिकोटा से इसरो के भविष्य के मिशनों की उलटी गिनती के लिए वलारमथी मैडम की आवाज अब सुनाई नहीं देगी।

चंद्रयान 3 उनका अंतिम काउंटडाउन था। बहुत दुख हुआ। प्रणाम।’ इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी ISRO की इस खास आवाज के खामोश होने पर श्रद्धांजलि का दौर जारी है।

चंद्रयान-3 के प्रज्ञान रोवर को निष्क्रिय किया
चंद्रयान-3 के रोवर प्रज्ञान ने चंद्रमा की सतह पर अपना काम पूरा कर लिया है और अब यह निष्क्रिय (स्लीप मोड) अवस्था में चला गया है। इसरो ने शनिवार को यह जानकारी दी। इससे पहले, इसरो के प्रमुख एस सोमनाथ ने कहा था कि चंद्रमा पर भेजे गए चंद्रयान-3 के रोवर और लैंडर ठीक से काम कर रहे हैं और चूंकि चंद्रमा पर अब रात हो जाएगी इसलिए इन्हें ‘निष्क्रिय’ किया जाएगा।

इसरो ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘रोवर ने अपना कार्य पूरा कर लिया है। इसे अब सुरक्षित रूप से पार्क (खड़ा) किया गया है और निष्क्रिय (स्लीप मोड) अवस्था में सेट किया गया है। एपीएक्सएस और एलआईबीएस ‘पेलोड’ बंद हैं। इन पेलोड से आंकड़े लैंडर के माध्यम से पृथ्वी पर प्रेषित किए जाते हैं।’

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button