बिलासपुर

अगर ऐसा हुआ तो… बंद करना पड़ सकता है सिम्स अस्पताल

Advertisement

(नीरज शर्मा) : बिलासपुर – शायद मरीजों और स्टाफ नर्सों की सिम्स प्रबंधन को कुछ पड़ी ही नहीं है। यही एक कारण हो सकता है कि 8 अप्रैल से प्रदर्शन और धरना दे रहे स्टाफ नर्सों की मांग पर अब राज्य सरकार सहित संभाग कमिश्नर भी कोई ध्यान नहीं दे रहे है। 700 बिस्तरों वाले सिम्स में महज 60 स्टाफ नर्स ही काम कर रही है।और अब इनका गुस्सा प्रबंधन पर फूटने भी लगा है।सुनिए सिम्स स्टाफ नर्स यूनियन की अध्यक्ष संजीता केंवट क्या कह रही है।

Advertisement

इनका गुस्सा लाजमी भी है क्योंकि ये व्यवस्था लगभग 20 वर्षों से यू ही चल रही है।और आखिकार सिम्स के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ नीरज शेंडे ने भी इस बात को स्वीकार कर लिया कि हालात ऐसे ही रहे और आंदोलन अगर उग्र हुआ तो अस्पताल बन्द करना पड़ सकता है।

Advertisement

गौरतलब है कि प्रबंधन भी भर्ती करने और नर्सों की संख्या बढ़ाने की बात कर रहा है मगर ऑटोनोमस बॉडी के अध्यक्ष यानी संभाग कमिश्नर ने अब तक इस पर कोई फैसला नही लिया है।और ना ही राज्य सरकार की ओर से प्रबंधन के पास सुरक्षित 217 पदों पर नियुक्ति का कोई आदेश आया है।यही हालात रहा तो यकीनन सिम्स प्रबंधन और मरीजों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button