देश

सबकी है नजर…जम्मू कश्मीर में पदयात्रा पहुंचने के बाद धारा 370 और 35A के सुलगते सवाल पर क्या कहते हैं राहुल गांधी..?

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : 7 सितंबर को कन्याकुमारी से शुरू हुई राहुल गांधी और कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा 19 जनवरी को जम्मू कश्मीर में प्रवेश कर रही है। यह इस यात्रा का अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। कहते भी हैं..अंत भला सो सब भला… उम्मीद करते हैं कि भारत जोड़ो यात्रा के अंतिम चरण में भी सब भला ही..भला होगा..! भारत जोड़ो यात्रा कल 19 जनवरी से जम्मू कश्मीर राज्य में प्रवेश कर रही है। और 20 जनवरी से जम्मू से कश्मीर की ओर बढ़ेगी या पदयात्रा। इस यात्रा और इस दौरान राहुल गांधी की सुरक्षा को लेकर सभी एजेंसियां एलर्ट मोड में आ गई हैं। भारत जोड़ो यात्रा श्रीनगर में 30 जनवरी को भव्य राजनीतिक समारोह के साथ पूर्ण होगी। कांग्रेस ने इसके लिए देश के 23 राजनीतिक दलों को इस समापन समारोह में आने के लिए न्यौता भेज दिया है। कांग्रेस के नेताओं और जम्मू कश्मीर में तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों डॉक्टर फारुख अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को इस बात का इंतजार है कि कश्मीर पहुंचने के बाद सांसद राहुल गांधी धारा 370 और 35A को समाप्त किए जाने को लेकर क्या कहते हैं..! कांग्रेस की धुर विरोधी पार्टी भाजपा भी जम्मू कश्मीर में धारा 370 को लेकर राहुल गांधी के बयानों पर बारीक नजर रखेगी। दरअसल कांग्रेस ने 5 अगस्त 2019 को समाप्त की गई धारा 370 और 35A को समाप्त करने का संसद के दोनों ही सदनों में जमकर विरोध किया था। लोकसभा में कांग्रेस के सांसद और नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने धारा 370 को खत्म करने के विरोध में जमकर अपनी बात कही थी।

Advertisement

इसी दौरान उनकी देश के गृह मंत्री अमित शाह से खासी बहस बाजी भी हो गई थी। लोकसभा की तरह ही राज्यसभा में भी कांग्रेस ने धारा 370 समाप्त किए जाने का पूरे दम खम से विरोध किया था। ऐसे ही जनता दल यूनाइटेड और दक्षिण की राजनीतिक पार्टी एमडीएमके तथा कुछ और दलों ने इसका विरोध किया था। इसके बाद भी दोनों सदनों से यह विधेयक पास होने के बाद भी इसे लेकर कांग्रेस का विरोध जारी रहा। एक मौके पर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने तो यहां तक कह दिया कि अगर कांग्रेस केन्द्र में सरकार में आई तो जम्मू कश्मीर में धारा 370 की फिर से बहाली पर विचार कर सकती है। इन तमाम परिप्रेक्ष्य में ना केवल पूरा देश वरन भाजपा समेत तमाम राजनीतिक पार्टियों की नजर इस बात पर रहेगी कि जम्मू कश्मीर में यात्रा के दौरान धारा 370 और 35A को लेकर राहुल गांधी क्या कहते हैं। कश्मीर का मामला पूरे देश के लिए अति संवेदनशील और भावनात्मक मामला है। इसलिए इस प्रदेश को लेकर एक शब्द भी इधर का उधर होने से पूरे देश में तीव्र प्रतिक्रिया हो सकती है। हालांकि राहुल गांधी ने इधर धारा 370 और 35A का जिक्र करना बंद कर दिया है।‌ वे अब सिर्फ जम्मू कश्मीर राज्य को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की बात करने लगे हैं। लेकिन जम्मू कश्मीर के राजनैतिक दलों सिर्फ इतने सही संतुष्ट होने वाले नहीं हैं। जम्मू कश्मीर की नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट जैसी प्रमुख पार्टियां यह चाहेंगी कि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी इस संवेदनशील प्रदेश से धारा 370 और 35A हटाने का विरोध करें और जम्मू-कश्मीर में 5 अगस्त 2019 के पहले की स्थिति बहाल करने की बात करें। लेकिन ऐसा करने पर जम्मू समेत पूरे देश में बवाल हो सकता है। देखना यह है कि भारत जोड़ो यात्रा में 19 जनवरी से 30 जनवरी तक जम्मू कश्मीर में रहने के दौरान कांग्रेस सांसद राहुल गांधी धारा 370,और 35A की समाप्ति तथा आतंकवाद और हिंदुओं की टारगेट किलिंग, पाकिस्तान के द्वारा आतंकवाद के गंदे खेल को लेकर क्या कहते हैं…? इस पर पूरे देश की भी नजर बनी रहेगी।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button