देश

G20 समिट के दौरान बंद रहेगा कनॉट प्लेस, नाराज व्यापारी बोले-

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : देश का दिल दिल्ली अगर है तो दिल्ली का दिल कनॉट प्लेस में बसता है. कनॉट प्लेस कितना वाइब्रेंट है, इसका अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि यहां आकर न केवल बहुत चहल-पहल दिखती है बल्कि सजी हुई दीवारें भी दिल मोह लेती हैं. मार्केट को एनडीएमसी ने पेंट कराकर फाउंटेन भी लगाया है.

Advertisement

महीनों पहले से कारोबारी व्यापारियों को लगा कि G-20 समिट के दौरान बिजनेस में अच्छा उछाल दिखेगा. डेलिगेट्स और उनके साथ आने वाले स्टाफ दिल्ली के दिल कनॉट प्लेस में आकर यहां की रौनक, चहल-पहल, सजावट, फाउंटेन और खूबसूरती देखेंगे।

Advertisement

क्योंकि यहां सफाई के साथ-साथ काफी ब्यूटीफिकेशन भी हुआ, कारोबारियों ने खुद लगकर रेस्टोरेंट, शोरूम और दुकानों को चमका दिया. लेकिन जैसी ही समिट का वक्त करीब आ गया तो कारोबारियों को जोर का झटका लगा.

नेशनल रेस्टोरेंट असोसिएशन ऑफ इंडिया के कोषाध्यक्ष मनप्रीत का कहना है कि महीना भर पहले से ही सरकारी अफसरों के साथ मीटिंग हुई. हमें कोई आइडिया नहीं था कि कनॉट प्लेस बंद हो जाएगा. अचानक से तीन दिनों के बंद का नोटिस मिलते ही हम सभी ने पुलिस कमिश्नर को रिक्वेस्ट भेजी थी कि कारोबार को बंद ना किया जाए लेकिन सिक्योरिटी की वजह से सीपी को बंद कर दिया.

दिल्ली और हिंदुस्तान की सिक्योरिटी फोर्सज स्ट्रांग हैं. ऐसे में पूरा सीपी बंद करने की जरूरत नहीं थी. क्या हमें अपनी सिक्योरिटीज पर भरोसा नहीं? जी 20 कई देशों में हो चुका है, जब वहां के बाजार बंद नहीं हुए तो सीपी के इतने बड़े एरिया को क्यों बंद किया जा रहा है?

उन्होंने कहा कि 8 से 10 सितंबर को शुक्रवार शनिवार और रविवार पड़ रहा है. सबसे ज्यादा सेल इन्ही दिनों में होती है. हैवी ट्रैफिक भी इन्हीं तीन दिनों में होता है जबकि कारोबारियों को मार्केट बंद करने के लिए बोला गया है.

ऐसे में डेलीगेट्स अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मशहूर कनॉट प्लेस को भी नहीं देख पाएंगे. वो आते क्राउड देखते और तो उनको पता लगता कि दिल्ली के दिल कनॉट प्लेस कितना वाइब्रेंट है कैसे यहां लोग घूमते हैं? कितना लोग इंजॉय करते हैं?

Advertisement

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button