छत्तीसगढ़

बिलासपुर के रंग निर्देशक सुनील चिपड़े को मिला प्रतिष्ठित शरदचंद्र वैरागकर सम्मान

(दिलीप जगवानी) : लगातार काम मे सक्रिय रहते हैं तो यकीन मानिये आप कुछ नया अनुभव करते है. सीखने का एक सशक्त माध्यम रंगमंच है. यहां आप पहले समर्पित होते हैं फिर सम्मान पाते हैं. 30 सालो का रंग सफ़र तय करने के बाद बिलासपुर के नाट्य निदेशक सुनील चिपड़े को प्रतिष्ठित शरदचंद्र वैरागकर सम्मान मिला है.

Advertisement

बिलासपुर के अग्रज नाट्य दल के निदेशक सुनील चिपड़े को 12 वां  शरदचंद्र वैरागकर सम्मान से मिला है. रायगढ़ इप्टा ने एक समारोह में सुनील को उनकी टीम की उपस्थिति मे य़ह सम्मान प्रदान किया. इस सम्मान के घोषणा ने सुनील चिपड़े को पहले चकित किया फिर उन्होंने खुद को टटोलकर देखा. रंग मंच की नामी हस्तियों बंशी कौल सीमा बिस्वास मानव कौल रघुवीर यादव संजय उपाध्याय को इससे पहले शरद चंद्र वैरागकर पुरस्कार दिया जा चुका है.

Advertisement


सुनील कह्ते है अग्रज नाट्य दल की स्थापना के साथ इन 30 सालों मे कई नाटकों का निर्देशन जेल मे बंदियों का हुनर तराशना सबसे महत्वपूर्ण नाट्य कला से शिक्षा को जोड़कर प्रभावी बनाने की दिशा में काम करना य़ह सब कुछ अनवरत रहा है यही इस सम्मान के पीछे का प्रतिफल हैं.

Advertisement


रायगढ़ इप्टा से सम्मान मिलाना उनके लिए अद्भुत था उपस्थित अग्रज दल का उत्साहवर्धन हुआ है सुनील मानते हैं कि निर्देशक  कलाकार के बिना कुछ भी नहीं है. पुरस्कार स्वीकार करते ही रायगढ़ में बहुत सारी संस्थाओं ने सुनील का परंपरागत तरीके से स्वागत किया य़ह दृश्य भी  गहराईयों तक याद रहने वाला है.


सम्मान मिलने पर समाज की अपेक्षाओं पर खरा उतरने की जिम्मेदारी  बढ़ जाती है इस नाते सुनील चिपड़े नाट्य उत्सव के अलावा एनएसडी और देश मे रंग जगत के प्रसिद्ध लोगों से सीखने वर्कशॉप करना चाहते हैं. स्कुल स्तर पर थियेटर फेस्टिवल आयोजित करने की उनकी योजना है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button