देश

नकलची होने से नहीं बनेंगे आत्मनिर्भर, भारत को जानना जरूरी: मोहन भागवत

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : संघ प्रमुख मोहन भागवत गुरुवार को नागपुर में थे. यहां एक कार्यक्रम में उन्होंने बताया कि हिंदू कौन है, संघ क्या चाहता है और भारत को क्या बनना है.

Advertisement

उन्होंने कहा, “भारत को जो मानता है, भारत की भक्ति जिसके पास है, संस्कृति के अंदर चलने का प्रयास करने वाले, बलिदान देने वालों का अनुसरण करने वाला, किसी की भी पूजा करे, कोई भी कपड़ा पहने, कहीं भी पैदा हो, एक समाज बनाएं, वो हिंदू है.”

Advertisement

उन्होंने कहा, हमारा राष्ट्र चरित्र सिखाता है. सारी दुनिया को संतुलन सिखाएंगे. हमें दुनिया को जीतना नहीं है, हमें दुनिया को जोड़ना है. हम स्वयं सेवकों को सिखाते नहीं हैं, हम उनकी आदत बनाते हैं. हम भारत को जानकर, भारत जैसा बनना चाहते हैं. हम नकलची होगें, तो आत्मनिर्भर नही बनेंगे. हमें भारत को जानना होगा. 

संघ चाहता है भारत का हो उत्थान

मोहन भागवत ने कहा कि ये सिर्फ संघ का काम नहीं है, सभी का काम है. संघ को अपना नाम रोशन नहीं करना है. हम सब को ऐसा बनना है. जाति का गर्व सब में रहता है. भाषा का अभिमान होता है. आपस का व्यवहार भारत की भाषा में होना चाहिए.

स्वतंत्र भारत में कई राष्ट्र का विलय सरदार पटेल के माध्यम से हुआ. समाज में परिवर्तन लाने की जरूरत है. भारत के उत्थान का श्रेय समाज को ही जाता है. देश सिर्फ जमीन नहीं है. संघ को अपने लिए कुछ नहीं करना है. संघ चाहता है कि भारत का उत्थान हो.

दुनिया को जोड़ने का महामार्ग भारत ही है

Advertisement

संघ प्रमुख ने कहा कि जी20 की अध्यक्षता करने से भारत का मनोबल बढ़ा है. लोगों को लग रहा है कि हम कहीं काम नहीं हैं. भारत को विश्वगुरु बनना है. दुनिया ने देखा है कि दुनिया को जोड़ने का महामार्ग भारत ही है.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button