छत्तीसगढ़

अश्लील वीडियो दिखाकर, रिटायर्ड तहसीलदार से ठगो ने  वसूल लिए 11 लाख, आरोपी आये पुलिस की गिरफ्त में…

Advertisement

(भूपेंद्र सिंह राठौर) : बिलासपुर : बिलासपुर में रिटायर्ड तहसीलदार को डरा धमका कर 11 लाख की ठगी करने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने राजस्थान से धर-दबोचा है। तीनों आरोपी रिटायर्ड अफसर के मोबाइल पर अश्लील वीडियो कॉल कर झांसे में लिए थे।

Advertisement

फिर पुलिस में शिकायत और वायरल करने की धमकी देकर लाखो रूपये ऐठ लिए थे। पीड़ित की शिकायत पर बिलासपुर पुलिस ने राजस्थान से ऑनलाइन सेक्सटाॅर्शन करने वाले तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायधानी लाया गया। तीनों के कब्जे से फर्जी सीम, बैंक खाते सहित कई अन्य सामान जब्त किया गया है।

Advertisement

दरअसल, रिटायर्ड तहसीलदार कोनी निवासी ने शिकायत में बताया कि अप्रैल में उनके मोबाइल पर अश्लील वीडियो कॉल आया था। इस दौरान आरोपी ने वीडियो रिकॉर्ड कर लिया।

और फिर 8 अप्रैल से 24 अप्रैल तक अश्लील वीडियो वायरल करने के नाम पर 10,94,500 रुपये की ठगी कर धोखाधड़ी किये। पीड़ित कि शिकायत को एसपी ने गंभीरता से लिया और जांच कर आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश दिए। सायबर की टीम ने बैंक खातों की स्टेटमेंट, ऑनलाईन ट्रांजेक्शन व टेक इंट की जांच की।

इस दौरान पता चला कि आरोपी राजस्थान के थाना कामां के ग्राम हजारीबास व दोलाबास के निवासी है। बिलासपुर पुलिस की एक विशेष टीम निरीक्षक राजेश मिश्रा के साथ राजस्थान रवाना की गई। टीम द्वारा 1 सप्ताह तक राजस्थान में रहकर आरोपियों की रेकी की गई।

आरोपी तारिफ, मो. शमीम, अमजद खान निवासी दोलाबास, थाना कामां जिला डीग (राजस्थान) के बारे में जानकारी मिलने के बाद स्थानीय पुलिस की मदद से तीनों आरोपियों को पकड़ा गया। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि पीड़ित को अपने झांसे में लेकर ऑनलाईन ठगी करने का जुर्म करना स्वीकार किये।आरोपियों के पास से फर्जी सिम कार्ड, फर्जी बैंक खाते, 4 नग एण्ड्रायड फोन जब्त किया। गिरफ्तार आरोपियों को न्यायिक रिमाण्ड पर न्यायालय पेश किया गया।

साइबर ठग आये दिन नये नये तरीको के माध्यम से आम जनता से धोखाधड़ी करने का प्रयास करते है। कोई भी व्यक्ति अनजान नम्बर से अपने आप को पुलिस का अधिकारी, सी.बी.आई. अथवा ई.डी. का अधिकारी बताकर ठगी करने का प्रयास करते है ऐसे कॉल से सावधान रहे।

बिलासपुर पुलिस द्वारा इस प्रकार के ठगी को रोकने के लिये थानो में आम जनता द्वारा दर्ज कराये गये रिपोर्ट में मोबाईल नम्बर एवं व्यक्तिगत जानकारी हाईड किया जा रहा है।

Advertisement

किसी भी लुभावने या सस्ती कीमतों पर मिलने वालों सामानों को खरीदते समय नगद (कैश, ऑन डिलीवरी) में लेन-देन करें।

अनजान व्यक्ति जिसका नम्बर आपके मोबाईल पर सेव नही है उसके साथ कभी भी कोई निजी जानकारी, बैंकिग जानकारी, ओटीपी, आधार कार्ड, पैन कार्ड फोटो आदि शेयर न करे।

अनजान वेबसाईट एवं अनाधिकृत एप डॉउनलोड या सर्च करने से बचे। कम परिश्रम से अधिक लाभ कमाने अथवा रकम दुगना करने का झांसा देने वाले व्यक्तियों से सावधान रहे खुद को स्वयं होकर ठगो के पास न पहॅुचाये।

स्वयं की पहचान छुपाकर सोशल मिडीया फेसबुक, इन्स्टाग्राम, व्हाट्सएप इत्यादि के माध्यम से ईंटिमेट (अश्लील लाईव चैंट) करने से बचे।

परीक्षा में अधिक अंको से पास करा देने की झांसा देने वाले व्यक्तियो खासकर $92 नम्बरो से होने वाले साइबर फ्रॉड की घटना घटित होने पर निम्न प्रकार से त्वरित रिपोर्ट दर्ज करा सकते है।

शिकायत दर्ज करें

 हेल्पलाईन नम्बर 1930 पर सम्पर्क कर सहायता प्राप्त कर सकते है।

 http://cybercrime.gov.in पर जाकर ऑनलाइन शिकायत दर्ज कर सकते है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button