play-sharp-fill
छत्तीसगढ़

जादू टोना के शक में की 60 वर्षीय महिला की हत्या..

Advertisement

(उज्ज्वल तिवारी) : (पेंड्रा)। जिले में जादू टोना के शक में की 60 वर्षीय महिला की हत्या सुनियोजित तरीके से पहले कोटवार ने मृत महिला को बुलवाकर घटना को अंजाम दिया था। जिस पर पुलिस ने कार्यवाही करते हुए आरोपियों को गिरफ्तार किया है जिस पर पुलिस कार्यवाही कर रही है।। दरअसल पूरा मामला 19 जून की रात लगभग 9 बजे गौरेला थाने को सूचना मिली थी कि जिले के सुदूर अंचल के ग्राम भस्कुरा और कोदोरास के मध्य पुलिया के समीप एक अज्ञात महिला का शव पड़ा है।

Advertisement

जिस पर जिले की एसपी आईपीएस भावना गुप्ता के निर्देश पर तत्काल एएसपी ओम चंदेल और एसडीओपी गौरेला श्याम सिदार के नेतृत्व में एक टीम डॉग स्क्वायड के साथ घटनास्थल पर पहुंची थी और आस पास के ग्रामीणों की मदद से मृत महिला की शिनाख्तगी मुन्नीबाई मरावी उम्र लगभग 60 वर्ष ग्राम भस्कुरा के रूप में की गई जिसके बाद प्रारंभिक पंचनामा और पीएम कार्यवाही तथा घटनास्थल निरीक्षण फोरेंसिक वैज्ञानिक प्रवीण सोनी के पर्यवेक्षण में करवाया गया साथ ही साइबर सेल को भी डिटेक्शन में लगाया गया।

Advertisement

घटनास्थल से मिले साक्ष्य के आधार पर साइबर सेल प्रभारी उप निरीक्षक सुरेश ध्रुव की टीम ने जब टेक्निकल एनालिसिस किया तो कोटवार की भूमिका संदिग्ध परिलक्षित हुई, गांव में जब और पूछताछ की गई तो घटना के कुछ दिन पूर्व मृत महिला का गांव के ही चिकनीटोला निवासी कृष्णा उर्फ बब्बू मरावी से विवाद की बात पता चली और जब बब्बू की मां कंवरिया बाई के कोटवार विरासू लाल पड़वार से संबंधों का पता चला तो सारी कड़ियां जुड़ती नजर आई जिस आधार पर कोटवार विरासुलाल को हिरासत में लेकर हिकमत अमली से पूछे जाने पर अपना जुर्म कबूलते हुए घटना का वृतांत बताया। इसके बाद महिला आरोपी कंवरिया बाई मरावी को उसके निवास से गिरफ्तार किया गया। कृष्णा उर्फ बब्बू मरावी कोटवार के हिरासत में लेते ही फरार हो गया था जिसे साइबर सेल की टीम ने ग्राम करंजी के जंगलों से धर पकड़ कर हिरासत में लिया।
आरोपी बब्बू ने स्वयं अपने और अपनी मां पर मृतिका मुन्नीबाई द्वारा जादू टोना (स्थानीय बोली में पांगती) करने के शक में यह घटना किया जाना बताया है। कोटवार विरासुलाल चूंकि मृतिका मुन्नीबाई का विश्वास पात्र था और अक्सर मेडुका उसके वन अधिकार पट्टा के काम से उसे ले जाया करता था इसलिए उसने घटना के दिन दोपहर 1 बजे से महिला को वन अधिकार पट्टा में नंबर सुधरवाने के बहाने बुला रहा था। साथ ही आरोपी कृष्णा उर्फ बब्बू मरावी पहले से मृतिका के घर के पास ताक लगाकर बैठा था। मुन्नीबाई शाम करीब 4 बजे जब अपने घर से पैदल कोटवार से मिलने निकली आरोपी कृष्णा फरसा लेकर उसके पीछे निकल गया। आरोपी की मां कांवरिया बाई ने ही छठी कार्यक्रम से महिला के निकलने की बात कोटवार को फोन करके बताई थी। जिसके बाद मौका पाकर आरोपी कृष्णा उर्फ बब्बू ने कोदोरास के पास कच्चे मार्ग पर मुन्नीबाई को अकेला पाकर फरसा से ताबड़तोड़ हमले कर उसे मार डाला और जंगल के रास्ते भाग निकला। वहीं निरीक्षक धर्मानंद शुक्ला और उप निरीक्षक संत म्हात्रे की टीम के द्वारा आरोपियों का विधिवत मेमोरेंडम बयान दर्ज कर उनके निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त हथियार फरसा समेत समस्त भौतिक साक्ष्य और साइबर साक्ष्यों की बरामदगी की है। वहीं  मामले में हत्या और आपराधिक षडयंत्र का अपराध दर्ज कर सभी तीनों आरोपियों को विधिवत गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा जा रहा है।

1.  पुलिस ने इन आरोपियों को किया गिरफ्तार।।

1. कृष्णा उर्फ बब्बू मरावी उम्र 19 वर्ष ग्राम चिकनीटोला भस्कुरा

2. कंवरिया बाई मरावी उम्र 40 वर्ष ग्राम चिकनीटोला भस्कुरा

3. कोटवार विरासुलाल पडनवार उम्र 43 वर्ष ग्राम गुम्मा भस्कुरा।।

2.  इनकी रही अहम भूमिका

Advertisement

वहीं महज 48 घंटे में मामले का विस्तृत खुलासा करने में और आरोपियों की धरपकड़ में गौरेला के निरीक्षक धर्मानंद शुक्ला, उप निरीक्षक सनत  मात्रे साइबर सेल जीपीएम के उप निरीक्षक सुरेश ध्रुव, प्रधान आरक्षक रवि त्रिपाठी, प्रधान आरक्षक चौपाल कश्यप , आरक्षक सुरेंद्र विश्वकर्मा , आरक्षक राजेश शर्मा, आरक्षक महेन्द्र परस्ते की उल्लेखनीय भूमिका रही।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button