देश

राज्यसभा के टिकट वितरण को लेकर महाराष्ट्र कांग्रेस में भी जमकर बवाल

(शशि कोन्हेर) : राज्यसभा चुनाव में बाहरी उम्मीदवार के मुद्दे पर महाराष्ट्र कांग्रेस में कलह शुरू हो गई है। इस कलह की छाप पार्टी के शिर्डी में होनेवाले दो दिन के अधिवेशन पर भी नजर आने की उम्मीद है।

Advertisement

कांग्रेस ने अपने अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष इमरान प्रतापगढ़ी को महाराष्ट्र से राज्यसभा का उम्मीदवार बनाया है। इमरान मूलतः उत्तर प्रदेश के रहनेवाले हैं। उनकी उम्मीदवारी का विरोध करते हुए प्रदेश कांग्रेस के महासचिव आशीष देशमुख ने मंगलवार को अपने पद से त्यागपत्र दे दिया।

Advertisement

देशमुख का कहना है कि बाहरी उम्मीदवारों के भरोसे राज्य में कांग्रेस को पुनरुज्जीवित नहीं किया जा सकता। इसलिए मैं अपने पद से त्यागपत्र दे रहा हूं। देशमुखा का मानना है कि बाहर से उम्मीदवार लाना प्रदेश के कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ नाइंसाफी है।

Advertisement

आशीष देशमुख इमरान प्रतापगढ़ी पर तंज कसते हुए कहते हैं कि महाराष्ट्र के प्रतिबद्ध एवं परिणाम देनेवाले नेताओं को नजरंदाज करके शायर प्रताप इमरानगढ़ी को टिकट दिया जा रहा है, जोकि पिछले लोकसभा चुनाव में अपनी जमानत भी नहीं बचा सके थे। अब वे चाहते हैं कि महाराष्ट्र के 44 विधायक उन्हें शायरी और कव्वाली गाने के लिए संसद में भेजें।

शिर्डी में बुधवार से शुरू हो रहे दो दिन के प्रदेश कांग्रेस अधिवेशन का जिक्र करते हुए देशमुख कहते हैं कि इमरान प्रतापगढ़ी को प्रदेश अधिवेशन में शायरी और कव्वाली सिखाने का एक सत्र रखना चाहिए। बताया जा रहा है कि आशीष देशमुख खुद भी राज्यसभा टिकट की रेस में थे।

उनका कहना है कि 15 दिन पहले वह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिले थे। सोनिया जी ने मुझे आश्वस्त किया था कि तुम ज्यादा चिंता न करो। अब मुझे आश्चर्य हो रहा है कि क्या उन्होंने किसी दबाव में आकर इमरान प्रतापगढ़ी को महाराष्ट्र से उम्मीदवार बनाने का निश्चय किया है।

देशमुख सवाल करते हैं कि क्या कांग्रेस आलाकमान महाराष्ट्र में भी कांग्रेस की हालत उत्तर प्रदेश जैसी ही करना चाहता है, जहां आज सिर्फ दो विधायक चुनकर आए हैं? देशमुख यहीं नहीं रुकते। वह कहते हैं कि कांग्रेस शायद अपने उदयपुर अधिवेशन के ‘एक परिवार, एक टिकट’ के प्रस्ताव को ही भूल गई है।

शायद यही कारण है कि चिदंबरम के पुत्र के लोकसभा सदस्य रहते हुए भी चिदंबरम को और प्रमोद तिवारी की बेटी के विधायक रहते हुए भी प्रमोद तिवारी को राज्यसभा का टिकट दिया गया है। लेकिन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले इमरान प्रतापगढ़ी का महाराष्ट्र में स्वागत करते हुए सोमवार को कह चुके हैं कि जब नरेंद्र मोदी गुजरात के बजाय उत्तर प्रदेश से लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं, तो इमरान प्रतापगढ़ी महाराष्ट्र से क्यों नहीं?

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button