छत्तीसगढ़

स्पीकर का अब चुनाव, विपक्ष और सरकार में तनाव, ओम बिरला के मुकाबले विपक्ष से ये उतरे..

Advertisement

लोकसभा स्पीकर के पद पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच सहमति नहीं बन पाई है। एनडीए की ओर से ओम बिरला ने नामांकन दाखिल कर दिया है। वहीं विपक्ष की ओर से के. सुरेश को कैंडिडेट बनाया गया है। उन्होंने भी नामांकन दाखिल कर दिया है। अब बुधवार को सुबह 11 बजे स्पीकर पद के लिए मतदान होगा। के. सुरेश केरल से कांग्रेस के सांसद हैं और 8वीं बार चुनकर लोकसभा पहुंचे हैं।

Advertisement

आंकड़ों को देखते हुए साफ है कि स्पीकर पद पर चुनाव की स्थिति में एनडीए का दावा मजबूत है, लेकिन INDIA अलायंस को लगता है कि उसके पास अपनी ताकत दिखाने का मौका है। इसलिए उसने डिप्टी स्पीकर का पद देने की शर्त न पूरी होने पर कैंडिडेट ही उतार दिया है।

Advertisement

इसके साथ ही भारतीय लोकतंत्र के 72 सालों के इतिहास में ऐसा तीसरी बार होगा, जब स्पीकर के पद पर चुनाव होगा। इस स्थिति के लिए राहुल गांधी ने सरकार पर ही ठीकरा फोड़ा है। उन्होंने कहा कि विपक्ष ने स्पीकर पद के लिए सरकार का समर्थन करने का फैसला लिया था। हमारा कहना था कि आप डिप्टी स्पीकर का पद विपक्ष को दे दें। ऐसी परंपरा भी रही है।

वहीं विपक्ष की ओर से उम्मीदवार उतारने पर पीयूष गोयल ने कहा कि हम शर्तों के आधार पर समर्थन की बात को खारिज करते हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष की ओर से शर्त के आधार पर समर्थन की बात कही जा रही थी। ऐसा लोकसभा की परंपरा में कभी नहीं हुआ था। लोकसभा स्पीकर या फिर डिप्टी स्पीकर किसी दल का नहीं होता है बल्कि पूरे सदन का होता है।

राहुल गांधी ने पूरे वाकये की जानकारी देते हुए कहा था कि राजनाथ सिंह का कल शाम को मल्लिकार्जुन खरगे को फोन आया था। उन्होंने स्पीकर के लिए विपक्ष से समर्थन मांगा था।

इस पर खरगे जी ने कहा कि डिप्टी स्पीकर का पद यदि विपक्ष को दे दिया जाए तो हम स्पीकर के लिए समर्थन करेंगे। राहुल गांधी ने कहा कि इस पर राजनाथ सिंह ने जवाब दिया था कि मैं आपको कॉल रिटर्न करूंगा, लेकिन अब तक कोई बात नहीं की गई। इससे साफ है कि ये लोग संवाद नहीं चाहते बल्कि टकराव के ही रास्ते पर रहेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button