देश

हिंदू संगठनों ने किया ऐलान… आज कुतुब मीनार परिसर में पढेंगे हनुमान चालीसा

(शशि कोन्हेर) : कुुतुबमीनार परिसर में स्थित कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद के ढांचे में लगीं मूर्तियों को हटाने की मांग जोर पकड़ रही है। हिन्दु संगठनों को खासकर उल्टी लगीं भगवान गणेश की दो मूर्तियां को लेकर अधिक नाराजगी है।उनका कहना है कि वहां मस्जिद में लगीं मूर्तियां को देखकर लोगों की भावनाएं आहत हो रही हैं, इन्हें हटाया जाना चाहिए। इन संगठनों ने मांग की है कि मस्जिद के ढांचे पर लगीं सभी मूर्तियां निकालकर इन्हें प्रतिष्ठित किया जाए और उन्हें पूजा करने की अनुमति दी जाए।

Advertisement

इसके साथ ही कुतुबमीनार का नाम विष्णु स्तंभ किए जाने की भी मांग उन्होंने उठा दी है। इन मांगों को लेकर यूनाइटेड हिन्दू फ्रंट के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जयभगवान गोयल ने अन्य हिन्दू संगठनों को साथ लेकर मंगलवार को कुतुबमीनार परिसर में हनुमान चालीसा पढ़ने की घोषणा की है।

Advertisement

जय भगवान गोयल ने कहा है कि वह अपने समर्थकों के साथ वहां जाएंगे कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद के नाम से जाने जा रहे ढांचे को मंदिर घोषित करने की मांग करेंगे। वहां हनुमान चालीसा पढेंगे, उन्होंने कहा कि वे किसी भी अन्य धर्म के बारे में कोई बात नहीं कर रहे हैं, वे केवल अपनी बात कर रहे हैं कि जब ढांचे पर हमारे भगवान की मूर्तियां लगी हैं तो उन्हें वहां पूजा करने की अनुमति दी जाए, या फिर सभी मूर्तियां ढांचे से निकाली जाएं और वहां एक स्थान पर स्थापित की जाएं, जहां उन्हें पूजा करने की अनुमति दी जाए।

Advertisement

उन्होंने कहा कि जब यह स्पष्ट है कि इस ढांचे को 27 हिन्दू व जैन मंदिरों को तोड़कर बनाया गया है, उसमें मूर्तियां दिख रही हैं तो यह ढांचा तो स्वयं ही मंदिर है।

उन्होंने कहा है कि कई विज्ञानों ने कहा है कि जिस निर्माण को कुतुबमीनार कहा जा रहा है यह कुतुबमीनार नहीं विष्णु स्तंभ है, मगर कुछ अलग विचारधारा के लोगों ने इतिहास को गलत लिखा है।उन्होंने कहा कि हमारी मांग है कि इसे विष्णु स्तंभ घोषित किया जाए।

उन्होंने कहा कि हम लोग वहां शांतिपूर्वक जाएंगे और हनुमान चालीसा का वहां पाठ करेंगे। बता दें कि कुुतुबमीनार परिसर में स्थित कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद में पीछे की तरफ गणेश जी की दो मूर्तियां लगी हैं।

एक मूर्ति मस्जिद की नाली के ठीक ऊपर उल्टी स्थिति में लगी है।एएसआइ ने इसके ऊपर लोहे का जाल लगाकर इसे ढंक दिया है। इससे कुछ दूरी पर गणेश जी की एक और मूर्ति उल्टी स्थिति में लगी है। विवादित ढांचे में मूर्तियों के माध्यम से है कृष्ण अवतार का वर्णन भी किया गया है ढांचे पर एक स्थान पर भगवान कृष्ण के अवतार का वर्णन मूर्तियों के माध्यम से किया गया है।

ये मूतियां भी ढांचे में पीछे की तरफ लगी हैं। जिसमें पहली मूर्ति में भगवान कृष्ण के जेल में अवतार का ²श्य है, दूसरी मूर्ति में वसुदेव का यमुना को पार करने का ²श्य है इसी तरह यशोदा की बगल में भगवान कृष्ण को सुला देने का ²श्य है। इन सब मूर्तियों के माध्यम से दर्शाया गया है।

कुछ माह पहले राष्ट्रीय संस्मारक प्राधिकरण (एनएमए) के चेयरमैन तरुण विजय द्वारा इस बारे में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) को पत्र लिखने के बाद से मामला एक बार फिर गरमाया हुआ है।उन्होंने भी कुतुब परिसर में स्थित विवादित ढांचे में उल्टी लगीं भगवान गणेश की दो मूर्तियों आदि को हटाने की मांग की है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button