play-sharp-fill
देश

अयोग्य सांसदों को चुनाव लड़ने के मामले में EC ने SC में दायर किया हलफनामा, कहा- केंद्र ले सकती है निर्णय

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : नई दिल्ली : चुनाव आयोग ने शीर्ष अदालत को बताया कि दलबदल विरोधी कानून के तहत अयोग्य ठहराए गए सांसदों को सदन की उसी अवधि के दौरान उपचुनाव लड़ने से रोकने के लिए निर्वाचन आयोग की कोई भूमिका नहीं है। सुप्रीम कोर्ट के समक्ष दायर एक हलफनामे में चुनाव आयोग ने कहा कि कांग्रेस नेता जया ठाकुर द्वारा दायर की गई याचिका पर केंद्र सरकार ही किसी प्रकार की निर्णय ले सकती है।

Advertisement

केंद्र सरकार उठा सकती है इस मामले पर ठोस कदम
चुनाव आयोग ने कहा कि याचिका में शामिल मुद्दा संविधान के अनुच्छेद 191 (1) (ई) से संबंधित है। आयोग ने बताया कि वर्तमान याचिका उन मामलों से संबंधित है, जिनका अनुच्छेद 32 के तहत आयोग के कार्यक्षेत्र के संदर्भ में चुनाव के संचालन से कोई संबंध नहीं है और केंद्र सरकार इस मामले में की गई प्रार्थनाओं पर फैसला लेने के लिए उपयुक्त है।

Advertisement

एक बार अयोग्य होने पर नहीं दी जा सकती चुनाव लड़ने की अनुमति


मालूम हो कि कांग्रेस नेता जया ठाकुर ने शीर्ष अदालत में दायर अपनी याचिका में कहा था कि राजनीतिक दलों द्वारा राजनीतिक दोष के आधार पर अयोग्यता पर संविधान के 10वें अनुसूची के प्रावधान को निरर्थक और बेकार बनाने के लिए एक ठोस अखिल भारतीय प्रयास किया गया है।

याचिका में कहा गया था कि 10वीं अनुसूची के तहत सदन का सदस्य एक बार अयोग्य हो जाता है, तो उसे उस अवधि के दौरान फिर से चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं दी जा सकती है जिसके लिए वह निर्वाचित हुआ था।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button