play-sharp-fill
छत्तीसगढ़

बीरन माला को सोने की माला बताना भाजपा की विकृत मानसिकता -कांग्रेस

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा कांग्रेस के अधिवेशन में अतिथियों के स्वागत के लिये पहनाई गयी बीरन माला को भाजपा द्वारा सोनी की माला बताकर अफवाह फैलाना भाजपा की निम्न स्तरीय हरकत है।

Advertisement

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि कांग्रेस के अधिवेशन की सफलता से बौखलाई भाजपा अब दुष्प्रचार के लिये राजनैतिक मर्यादाओं की सारी सीमाओं को पार कर मानसिक विकृतता के स्तर पर गिर चुकी है।

Advertisement

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस स्टेयरिंग कमेटी के सदस्यों को छत्तीसगढ़ के बैगा आदिवासियों द्वारा पांरपरिक रूप से बनाई जाने वाली बीरन माला से स्वागत किया था। यह बीरन माला सूतकहर घास से तथा खेसारी पेड़ के तना से बनाई जाती है यह छत्तीसगढ़ की संस्कृति और हस्त कला का अनूठा नमूना है।

मुख्यमंत्री ने बैगा आदिवासियों के द्वारा बनाये गये इस माला से देश भर के अतिथियों का स्वागत कर छत्तीसगढ़ की पारंपरिक संस्कति और पहुना के स्वागत की आत्मीय परंपरा का निर्वहन किया है।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि यह भाजपा के लिये शर्म से डूब मरने वाली बात है कि 15 साल प्रदेश में सरकार चलाने वाली भाजपा को राज्य की पारंपरिक माला और स्वागत परंपरा का भी ज्ञान नहीं। प्रदेश में 15 साल तक भाजपा की सरकार थी तब भाजपाई हुक्मरानों ने छत्तीसगढ़ की संस्कृति और परंपरा को दबाने का काम किया।

राज्य के कारीगरों कलाकारों को पीछे धकेलने का काम किया था। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जब राज्य की कला संस्कृति और परंपरा को देश दुनिया में प्रचारित कर रहे उसको बढ़ावा दे रहे तो भाजपा इसको लेकर दुष्प्रचार कर रहे है।

15 साल तक राज्य के तीज त्योहार, संस्कृति को हेय दृष्टि से देखने वाले भाजपाईयों को यह बर्दाश्त नहीं हो रहा कि राज्य में बैगा आदिवासियों के द्वारा तैयार बीरन माला का इतना प्रचार क्यों हो रहा है?

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button